• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • दरांग हिंसा पर बोले असम CM- पैसे लेकर लोगों को भड़काया, सरकार को डराया नहीं जा सकता

दरांग हिंसा पर बोले असम CM- पैसे लेकर लोगों को भड़काया, सरकार को डराया नहीं जा सकता

मुख्‍यमंत्री ने पीएफआई पर लगाए हिंसा के आरोप. (File pic)

मुख्‍यमंत्री ने पीएफआई पर लगाए हिंसा के आरोप. (File pic)

Assam: मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शनिवार को दावा किया कि दरांग जिले में अतिक्रमण हटाने के दौरान हुई हिंसा में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का हाथ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    गुवाहाटी. असम (Assam) के दरांग (Darrang) और धोलपुर में अतिक्रमण हटाने के दौरान हुई हिंसा को लेकर राज्‍य के मुख्‍यमंत्री हिमंत बिस्‍व सरमा (Himanta Biswa Sarma) ने शनिवार को प्रतिक्रिया दी. उन्‍होंने आरोप लगाया कि कुछ लोगों ने पैसे लेकर अतिक्रमण अभियान के खिलाफ लोगों को भड़काया है. उनका दावा है कि इसमें असम के एक कॉलेज लेक्‍चरर समेत 6 लोग शामिल हैं. मुख्‍यमंत्री ने यह भी दावा किया कि इस मामले की न्‍यायिक जांच से और भी कई अहम खुलासे हो सकते हैं. उनका कहना है कि हम अब और चुप नहीं रह सकते. असम सरकार झुक नहीं सकती.

    जिस दरांग जिले में हिंसा हुई है, वहां तैनात पुलिस अधीक्षक सुशांत बिस्‍व सरमा मुख्‍यमंत्री के भाई हैं. अतिक्रमण हटाने के दौरान हुई हिंसा में दो लोगों की मौत हुई है. इस पर मुख्‍यमंत्री सरमा का कहना है, ‘कुछ लोगों ने बेसहारा और गरीब लोगों से पिछले 3 महीनों में 28 लाख रुपये वसूले हैं. उन लोगों ने इन लोगों से कहा था कि कोई भी अतिक्रमण अभियान नहीं चलाया जाएगा. वे लोग सरकार से बात कर लेंगे. उन लोगों ने इन लोगों को भड़काया और संगठित किया. इसके बाद उस दिन यह खतरनाक स्थिति बनी.

    मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शनिवार को दावा किया कि दरांग जिले में अतिक्रमण हटाने के दौरान हुई हिंसा में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का हाथ था. उन्होंने केंद्र सरकार से इस संगठन पर प्रतिबंध लगाने की भी मांग की.

    द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार असम के मंत्री और बीजेपी नेता अशोक सिंघल का कहना है, ‘इसमें एक तीसरी ताकत शामिल थी. इनमें वे संगठन और लोग हैं, जो असम के लोगों को अस्थिर और बदनाम करना चाहते हैं.’

    सरमा ने कहा कि उन्होंने ऑल असम माइनॉरिटी स्टूडेंट्स यूनियन (AAMSU) के साथ कई बैठकें की थी और वे अतिक्रमण हटाए जाने के लिए सहमत हो गए थे. उन्‍होंने कहा, ‘मैंने कहा था कि अगर लोग भूमिहीन हैं, तो उन्हें दो एकड़ जमीन मिलेगी. केवल एक चीज है, उनके पास कहीं और जमीन नहीं हो सकती है. लेकिन ज्यादातर लोगों के पास जमीन है. वे भूमिहीन नहीं हैं. बागबोर (बारपेटा) जैसे गांवों में उनकी पुश्‍तैनी जमीन है.’

    उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस विधायक उनसे मिलने आए थे तो उनको भी यह बात बताई थी. सीएम ने कहा, ‘वे इस बात पर सहमत हुए कि पहली बार सरकार ने भूमिहीन लोगों को बसाने के लिए कदम बढ़ाया है. इसके बाद उन्होंने तबाही मचाई.’ कांग्रेस ने पुलिस फायरिंग की निंदा की है. राज्य कांग्रेस के प्रमुख भूपेन कुमार बोरा ने उपायुक्त और दरांग एसपी को निलंबित करने की भी मांग की है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज