FIFA world cup: इस भारतीय ने लोन लेकर खर्च किए 13 लाख रुपये, घर पर बनाया 'स्‍टेडियम'

असम के कार्बी आंगलोग जिले के दीपू के रहने वाले पुतुल बोरा ने अने घर पर वर्ल्‍ड मैच देखने की व्‍यवस्‍था की और इसे जर्मन स्‍टेडियम नाम दिया.

News18Hindi
Updated: June 25, 2018, 6:56 AM IST
FIFA world cup: इस भारतीय ने लोन लेकर खर्च किए 13 लाख रुपये, घर पर बनाया 'स्‍टेडियम'
पुतुल बोरा(Photo: Facebook)
News18Hindi
Updated: June 25, 2018, 6:56 AM IST
दुनिया पर इस समय रूस में हो रहे फीफा वर्ल्‍ड कप 2018 का जादू छाया हुआ है. भारत भी इससे अछूता नहीं है. इसी की बानगी देखिए कि असम में जर्मनी के प्रशंसक ने वर्ल्‍ड कप का लुत्‍फ उठाने के लिए 13 लाख रुपये खर्च कर खुद का 'स्‍टेडियम' बना लिया. असम के कार्बी आंगलोग जिले के दीपू के रहने वाले पुतुल बोरा ने अने घर पर वर्ल्‍ड मैच देखने की व्‍यवस्‍था की और इसे जर्मन स्‍टेडियम नाम दिया. वह अपनी पसंदीदा टीम को सम्‍मान देने के लिए अपने नाम के आखिर में भी जर्मन जोड़ते हैं.

57 साल के बोरा पेशे से कारोबारी हैं और फुटबॉल वर्ल्‍ड कप देखने के लिए उन्‍होंने बैंक से 13 लाख रुपये का लोन लेकर ऑडिटोरियम बनवाया है. इसमें 100 लोग आराम से बैठकर 53 इंच की स्‍क्रीन पर मैच देख सकते हैं. इनके अलावा 200 लोग बाहर से मैच देख सकते हैं. इसका उद्घाटन फुटबॉलर गिलबर्टसन संगमा ने रूस और सऊदी अरब के बीच मैच से पहले किया.

पुतुल का फुटबॉल से प्रेम 1983 से शुरू हुआ. 1994 में उन्‍हें कोलकाता से स्‍कॉच व्हिस्‍की शराब मिली लेकिन उन्‍होंने इसे अपने आंगन में अच्‍छे दिनों के इंतजार में गाड़ दिया.


2014 में जब जर्मनी ने वर्ल्‍ड कप के फाइनल में अर्जेंटीना को 1-0 से हराया तो बोरा की खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा. लेकिन बोरा ने व्हिस्‍की नहीं पी इसके बजाय उन्‍होंने इसे ग्‍लास बॉक्‍स में सजा दिया. अगर जर्मनी रूस में वर्ल्‍ड कप जीत लेती है तो वह अब इस बोतल को जर्मन टीम या इसके दूतावास को गिफ्ट करना चाहते हैं. बोरा को विश्‍वास है कि वर्ल्‍ड कप में जर्मनी और ब्राजील के बीच कड़ी टक्‍कर होगी.

पुतुल बोरा इस इलाके में फुटबॉल के जबरदस्‍त फैन के रूप में जाने जाते हैं. 1990 से वह लोगों को अपने घर मैच देखने बुलाते हैं. उनका कहना है कि जो लोग उनके यहां मैच देखने आएंगे उनको वह नाश्‍ता भी कराएंगे. जर्मनी के प्रशंसक होने के बावजूद बोरा के पास सभी टीमों के झंडे और जानकारी हैं. यह उनके घर पर भी दिखता है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर