लाइव टीवी

खुशबू चौहान को असम रायफल्स के जवान का जवाब, ‘बहादुरी मारने में नहीं बचाने में है’

News18Hindi
Updated: October 9, 2019, 5:39 PM IST
खुशबू चौहान को असम रायफल्स के जवान का जवाब, ‘बहादुरी मारने में नहीं बचाने में है’
असम रायफल्स के जवान बलवान सिंह ने कहा, ‘बहादुरी किसी को मारने में नहीं, बल्कि बचाने में है.

असम राइफल्स (Assam Rifles) के जवान बलवान सिंह (Balwaan Singh) ने कहा, ‘बहादुरी किसी को मारने में नहीं, बल्कि बचाने में है. हर किसी को मानवाधिकार नियमों का पालन करना चाहिए.’

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2019, 5:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (National Human Rights Commission) द्वारा 27 सितंबर को आयोजित किए गए एक कार्यक्रम दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की महिला कांस्‍टेबल खुशबू चौहान (Khushbu Chauhan) ने काफी सुर्खियां बटोरीं थी. उन्होंने कहा था, 'हम उस घर में घुसकर मारेंगे, जिस घर से अफजल निकलेगा.' उनके इस भाषण की कुछ लोगों ने तारीफ की तो कुछ ने आलोचना. लेकिन अब इसी कार्यक्रम में दिए गए भाषण का एक और वीडियो सामने आया है, जिसमें असम राइफल्स का जवान बलवान सिंह मानवाधिकार पर बोल रहे हैं. लेकिन उनके तर्क खुशबू से बिल्कुल अलग हैं.

बलवान सिंह (Balwaan Singh) ने कहा, ‘बहादुरी किसी को मारने में नहीं, बल्कि बचाने में है. हर किसी को मानवाधिकार नियमों का पालन करना चाहिए.’ असम राइफल्स (Assam Rifles) में रायफलमैन बलवान सिंह ने अपने संबोधन में कहा, ‘लोग कहते हैं कि मानवाधिकार का अनुपालन कर पाना असंभव है, अगर ये सच है तो आम लोगों के अधिकारों की रक्षा आखिर कौन करेगा?



असम राइफल्स के जवान का खुशबू चौहान को जवाब
गौरतलब है कि सीआरपीएफ (CRPF) ने 27 सितंबर को दिल्ली में मानवाधिकार पर वाद-विवाद प्रतियोगिता आयोजित की थी. इस डिबेट में मानवाधिकार का पालन करते हुए आतंकवाद (Terrorism) से कैसे निपटा जाए इस मुद्दे पर बहस करनी थी. इस प्रतियोगित में हर कोई अपने तर्कों से सामने वाले को हराने में लगा था. ऐसे में रायफलमैन बलवान सिंह के इस बयान को खुशबू चौहान के तर्कों का जवाब माना जा रहा है. जवान ने कहा कि हमारी बहादुरी किसी को मारने में नहीं, बल्कि बचाने में है.



'उस घर में घुसकर मारेंगे, जिस घर से अफजल निकलेगा'
बता दें कि इस कार्यक्रम में सीआरपीएफ कांस्‍टेबल खुशबू चौहान ने बेहद जोशीले अंदाज और देशभक्ति से ओतप्रोत दी गई अपनी स्‍पीच में आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले, देशविरोधी नारे लगाने वालों और मानवाधिकार की दु‍हाई देने वालों को अपने ही अंदाज में लताड़ा. उन्‍होंने कन्‍हैया कुमार पर निशाना साधते हुए कहा, 'उस देशद्रोही ने कहा था कि तुम एक अफजल को मारोगे तो हर घर से अफजल निकलेगा. तो मैं भारत की बेटी अपनी भारतीय सेना की ओर से आज यह ऐलान करती हूं कि उस घर में घुसकर मारेंगे, जिस घर से अफजल निकलेगा. वो कोख नहीं पलने देंगे जिस कोख से अफजल निकलेगा. उठो देश के वीर जवानों तुम सिंह बनकर दहाड़ दो, और एक तिरंगा उस कन्‍हैया के सीने में गाड़ दो.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 9, 2019, 4:11 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,709

     
  • कुल केस

    6,412

     
  • ठीक हुए

    503

     
  • मृत्यु

    199

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 10 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,152,323

     
  • कुल केस

    1,604,718

    +1,066
  • ठीक हुए

    356,660

     
  • मृत्यु

    95,735

    +42
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर