असम में सर्वानंद या हिमंत बिस्वा? असमंजस में फंसी BJP; दिल्ली तलब किए गए दोनों नेता

मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल,

Assam BJP: सोनोवाल और सरमा की बैठक शनिवार को भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के महासचिव बी एल संतोष और अन्य नेताओं के साथ होने वाली है.

  • Share this:
    नयी दिल्ली/गुवाहाटी. असम में बहुमत मिलने के बाद भी भाजपा पसोपेश में फंस गई है. मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को बरकरार रखा जाया या फिर पार्टी में तेजी से उभरे हिमंत बिस्वा सरमा को नया मुख्यमंत्री बनाया जाए? भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने असम में अगली सरकार के नेतृत्व को लेकर चर्चा करने के लिए असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल और स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्व सरमा को शुक्रवार को दिल्ली बुलाया है.

    सूत्रों के मुताबिक सोनोवाल और सरमा की बैठक शनिवार को भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के महासचिव बी एल संतोष और अन्य नेताओं के साथ होने वाली है. उन्होंने बताया कि फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद रहेंगे या नहीं. असम भाजपा के प्रवक्ता रूपम गोस्वामी ने कहा, ‘‘सोनोवाल और सरमा अगली सरकार के गठन पर चर्चा के लिए शनिवार को नयी दिल्ली के लिए रवाना होंगे.’’

    किसको मिले मौक?
    असम के साथ-साथ केंद्रीय भाजपा में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा है कि कोई भी बदलाव बातचीत के बाद ही लिया जाएगा. बता दें कि चुनाव प्रचार के दौरान सोनोवाल को सीएम उम्मीदवार नहीं बनाया गया था. हालांकि भाजपा नेताओं ने कहा था कि पार्टी उनके नेतृत्व में ही चुनाव लड़ेगी. इस बीच सीएम पद को लेकर सर्बानंद सोनोवाल और हेमंत बिस्व शर्मा दोनों ने ही अपने पत्ते नहीं खोले हैं. इनका कहना है कि सीएम पद को लेकर कोई खींचतान नहीं है और ये मीडिया ही अनुमान लगा रही है.

    ये भी पढ़ेंः- भारत को अगर कोरोना पर काबू पाना है तो शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञ की बात सुनें

    सोनोवाल की दावेदारी

    बता दें कि सोनोवाल असम में बेहद लोकप्रिय हैं और उन्हें एक साफ छवि का नेता माना जाता है. नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर लोगों में खासा गुस्सा था, लेकिन कहा जा रहा है कि उन्होंने यहां के लोगों को शांत कराने में काफी अहम भूमिका निभाई. हालांकि असम में पार्टी का एक वर्ग चाहता है कि हेमंत बिस्व शर्मा को सीएम को जिम्मेदारी दी जाए. अगले एक दो दिनों में सीएम के नाम पर फैसला हो सकता है.