असम में बाढ़ से मृतकों की संख्या 87 हुई, उत्तर बिहार में भी आया सैलाब

असम में बाढ़ से मृतकों की संख्या 87 हुई, उत्तर बिहार में भी आया सैलाब
असम में बाढ़ के कारण जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 87 हो गई है (AP Photo/Anupam Nath)

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के एक प्रवक्ता ने बताया कि बल ने मानसून (Monsoon) की ऋतु में बाढ़ और भारी बारिश की स्थिति से निपटने के लिए 20 राज्यों में 122 टीमों को तैनात किया है. सर्वाधिक 19 टीमें बिहार (Bihar) में और असम में 12 टीमें तैनात की गई हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. असम (Assam) में बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 87 हो गई है. नेपाल (Nepal) में गंडक नदी (Gandak River) के जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश के कारण मंगलवार को बिहार के उत्तरी इलाकों में सैलाब आ गया. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के एक प्रवक्ता ने बताया कि बल ने मानसून (Monsoon) की ऋतु में बाढ़ और भारी बारिश की स्थिति से निपटने के लिए 20 राज्यों में 122 टीमों को तैनात किया है. सर्वाधिक 19 टीमें बिहार (Bihar) में और असम में 12 टीमें तैनात की गई हैं. एक सरकारी रिपोर्ट में कहा गया है कि असम में बाढ़ के कारण जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 87 हो गई है. वहीं सैलाब के कारण स्थिति गंभीर बनी हुई और 24 जिलों के 24.19 लाख लोग इससे प्रभावित हैं.

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की दैनिक बाढ़ रिपोर्ट के मुताबिक, एक व्यक्ति की नगांव जिले में मौत हुई है जबकि दूसरे की मोरीगांव में जान चली गई. उसने बताया कि बारिश और बाढ़ के कारण हुए भूस्खलन की वजह से 26 लोगों की मौत हुई है. उधर, मेघालय (Meghalaya) के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने बताया कि राज्य के पश्चिम गारो हिल्स जिले में बाढ़ में चार बच्चों और एक महिला की मौत हो गई है और 1.52 लाख लोग प्राकृतिक आपदा से प्रभावित हैं. उन्होंने मृतकों के परिजनों के लिए चार लाख रूपये के मुआवजे का ऐलान किया.

ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 8369 नए मामले, अब तक 12,276 लोगों की मौत



उत्तरी बिहार में इस वजह से आई बाढ़
नेपाल में गंडक नदी के जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश के कारण पश्चिम चंपारण जिले के वाल्मिकीनगर बैराज से पानी छोड़ना पड़ा, जिस वजह से उत्तरी बिहार के इलाकों में बाढ़ आ गई. आपदा प्रबंधन विभाग ने एक बुलेटिन में बताया कि गंगा को छोड़ कई नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं और बाढ़ के पानी ने आठ जिलों के करीब चार लाख लोगों को प्रभावित किया है.

अधिकारी ने बताया कि राज्य के चार जिलों में आकाशीय बिजली गिरने से कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई. अधिकारियों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में बिजली गिरने से दो लोगों की मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- Covid-19: भारत में 28 हजार मौतें; स्पेन को पीछे छोड़ 7वें नंबर पर पहुंचा

दिल्ली में रविवार को बारिश से चार लोगों की मौत
राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार को भारी बारिश हुई जिसके बाद शहर के निचले इलाकों में जलजमाव हो गया और वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई. स्थानीय लोगों ने घरों में घुसते बारिश के पानी और पानी से भरी हुई सड़कों पर फंसे हुए वाहनों की तस्वीरें और वीडियो साझा किए. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि दिल्ली में सफदरजंग और लोधी रोड मौसम केंद्रों में लगभग 20 मिमी बारिश दर्ज की गई. शहर में रविवार को हुई भारी बारिश में कम से कम चार लोगों की मौत हो गई थी.

आईएमडी ने बताया कि हरियाणा और पंजाब के भी कई इलाकों में बरसात हुई. इस वजह से अधिकतम तापमान में काफी गिरावट आई. विभाग ने कहा कि दोनों राज्यों के कुछ स्थानों पर अगले दो दिनों में बारिश या गरज के साथ वर्षा की संभावना है.

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान अधिकांश जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई. विभाग ने मंगलवार को बताया कि इस दौरान महाराजगंज में 12 सेंटीमीटर दर्ज की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज