Assembly Banner 2021

Assembly Election 2021: मिशन साउथ पर राहुल गांधी, दक्षिणी राज्यों के लिए बदली कांग्रेस की प्रचार रणनीति

वायनाड सांसद राहुल गांधी

वायनाड सांसद राहुल गांधी

Assembly Election 2021: दो दक्षिणी राज्यों केरल और तमिलनाडु में, दोनों 6 अप्रैल को मतदान होगा. ऐसे में कांग्रेस का पूरा जोर है कि वह यहां स्थानीय लोगों से सीधे जुड़े, समूहों के साथ फ़्रीव्हीलिंग सेशन्स करे या फिर स्थानीय लोगों के साथ अपने अनुभव साझा करे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 7:22 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दक्षिणी राज्यों में विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस (Congress) के प्रचार का बड़ा हिस्सा स्थानीय स्तर पर लोगों के साथ मुलाकात और समहूों या लोगों के साथ अपने अनुभव साझा करने पर आधारित हो गया है. सोमवार को कांग्रेस नेता राहुल  गांधी (Rahul Gandhi) ने कोच्चि में स्कूली बच्चों से मुलाकात की. यह पार्टी की कैंपेनिंग का हिस्सा था. इस दौरान राहुल के जापानी मार्शल आर्ट सीखने की तस्वीरें स्कूल में बांटी गई है. दो दक्षिणी राज्यों केरल और तमिलनाडु में, दोनों 6 अप्रैल को मतदान होगा. ऐसे में कांग्रेस का पूरा जोर है कि वह यहां स्थानीय लोगों से सीधे जुड़े, समूहों के साथ फ़्रीव्हीलिंग सेशन्स करे या फिर स्थानीय लोगों के साथ अपने अनुभव साझा करे.

अंग्रेजी अखबार द हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार पार्टी दोनों राज्यों में पार्टी के वरिष्ठ रणनीतिकार ने नाम ना प्रकाशित किये जाने की शर्त पर बताया कि लोगों से राहुल गांधी से मिलने के लिए कहने के बजाये राहुल खुद लोगों के पास जा रहे हैं. पिछले तीन सालों में तीन राज्यों में पार्टी की सत्ता गंवाने के बाद तमिलनाडु, केरल, असम, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी के चुनाव कांग्रेस के लिए महत्वपूर्ण हैं. साल 2014 और साल 2019 के लोकसभा चुनावों में भी कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा.

राहुल का 90% अभियान इन समूहों के साथ
विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कांग्रेस उन दो राज्यों में अभियान की रणनीति बना रही है जहां वायनाड सांसद लोकप्रिय हैं. रिपोर्ट के अनुसार पार्टी के एक और रणनीतिकार ने नाम ना प्रकाशित करने की शर्त पर कहा कि 'राहुल का 90% अभियान छोटे, सड़क के किनारे, स्थानीय समूहों और छात्रों के साथ और रोड शो के तौर पर है. बड़ी सार्वजनिक रैलियां सीमित होंगी. हम ऐसे मूमेंट्स और तस्वीरों के जरिए लोगों का ध्यान खींचना चाह रहे हैं जो सोशल मीडिया पर वायरल हो सकें. उनका भाषण अनुवाद में अपनी मौलिकता खो सकता है, लेकिन तस्वीरें लंबे समय तक बनी रहेंगी.'



राहुल ने मंगलवार को केरल स्थित कोट्टायम के परुथुम्परा की गली में बैठक की. उसके बाद मनारकाडू, पोंकुन्नम और पाला में तीन सार्वजनिक सभाएं कीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज