Assembly Election 2021: पश्चिम बंगाल में चौथे चरण में हिंसा की घटनाओं के बीच 76.16% मतदान

पश्चिम बंगाल में चौथे चरण में 76.16 प्रतिशत वोटिंग (सांकेतिक तस्वीर)

पश्चिम बंगाल में चौथे चरण में 76.16 प्रतिशत वोटिंग (सांकेतिक तस्वीर)

West Bengal Assembly Elections: निर्वाचन आयोग ने कहा कि चुनाव के चौथे चरण में 44 विधानसभा क्षेत्रों में फैले 15940 मतदान केंद्रों पर मतदान हुआ.

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में विधानसभा (West Bengal Assembly Elections) के चौथे चरण के लिये शनिवार को हुए चुनाव में शाम पांच बजे तक 76.16 प्रतिशत मतदान हुआ. इस दौरान हुई हिंसा की वजह से निर्वाचन आयोग को कूच बिहार के सीतलकूची में एक बूथ पर मतदान स्थगित करना पड़ा. निर्वाचन आयोग ने कहा कि चुनाव के इस चरण में 44 विधानसभा क्षेत्रों में फैले 15940 मतदान केंद्रों पर मतदान हुआ.

निर्वाचन आयोग ने एक बयान में कहा, “हालांकि कूच बिहार के सीतलकूची विधानसभा क्षेत्र के तहत एक मतदान केंद्र संख्या 126 पर विशेष पर्यवेक्षकों से हिंसा की घटना की खबर प्राप्त होने के बाद, आयोग ने वहां चुनाव स्थगित कर दिया है. विस्तृत रिपोर्ट का इंतजार है.”

इस चरण में 15940 मत इकाइयां (बीयू) और इतनी ही नियंत्रण इकाइयां (सीयू) और वीवीपीएटी का इस्तेमाल किया गया. कम से कम एक बीयू, एक सीयू और एक वीवीपीएटी से एक ईवीएम (इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन) इकाई तैयार होती है.

ये भी पढ़ें- 85 दिन में भारत में दी गईं 10 करोड़ खुराकें, चीन-अमेरिका भी पीछे
बयान में कहा गया, “चुनाव के दौरान (ईवीएम के) काम न करने की दर पिछले कुछ चुनावों के अनुभवों के जितनी ही थी.” इस संबंध में और विवरण नहीं दिया गया.

तृणमूल ने केंद्रीय बलों पर लगाया आरोप

तृणमूल कांग्रेस के केंद्रीय बलों द्वारा लोगों पर एक खास पार्टी के पक्ष में मतदान के लिये दबाव डाले जाने के आरोपों के बीच बयान में कहा गया कि आयोग के निर्देशों के मुताबिक, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों समेत पुलिस अधिकारी तब तक मतदान केंद्रों के अंदर नहीं जा सकते जब तक कि कानून-व्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर पीठासीन अधिकारी को उनकी आवश्यकता हो.



इसमें कहा गया, “यह आयोग का स्थायी निर्देश है कि मतदान शुरू होने से 48 घंटे पहले की शांति अवधि के दौरान जिन क्षेत्रों में विधानसभा चुनाव होने हैं वहां किसी बाहरी व्यक्ति को रहने की अनुमति नहीं दी जाएगी.”

पश्चिम बंगाल में जारी चुनावों में इस चरण तक 10 अप्रैल की अवधि तक रिकॉर्ड 283.70 करोड़ रुपये जब्त किये गए हैं. आंकड़ों में नकदी जब्त करने के अलावा, शराब, मादक द्रव्य, मुफ्त उपहार के आंकड़े भी शामिल हैं और यह 2016 के विधानसभा चुनाव के दौरान जब्त किये गए 44.33 करोड़ रुपये के मुकाबले 6.4 गुना ज्यादा है.



आयोग ने कहा कि उसके सी-विजिल ऐप के जरिये आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के कुल 21,217 मामले सामने आए और इनमें से शनिवार को अपराह्न तीन बजे तक 20,987 मामलों का निस्तारण कर दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज