Assembly Banner 2021

असम में मतदान के बाद भड़की हिंसा, BJP विधायक की कार में EVM देख मचा बवाल

चुनाव आयोग ने अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है. (

चुनाव आयोग ने अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है. (

Assam Violence: असम के करीमगंज (Karimganj) इलाके में हिंसा तब भड़क गई, जब स्थानीय लोगों ने पाया कि चुनाव अधिकारी बीजेपी विधायक कृष्णेंदु पॉल से संबंधित वाहन में ईवीएम ले जा रहे हैं. पॉल के परिजन के नाम पर रजिस्टर्ड महिंद्रा बोलेरो में ईवीएम मिली थी.

  • Share this:
करीमगंज. उत्तर-पूर्वी राज्य असम में भी विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के दूसरे चरण में हिंसा हो गई. मतदान के बाद ईवीएम (EVM) को निजी गाड़ी में लेकर जाने के चलते बराक घाटी क्षेत्र में हिंसा भड़क गई. भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को हवा फायर करने पड़े. खास बात है कि भीड़ में ज्यादातर विपक्षी दल के समर्थक थे. भीड़ ने कार को घेर लिया था. बताया जा रहा है कि वाहन करीमगंज जिले से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के उम्मीदवार का था. अथॉरिटीज ने जानकारी दी है कि ईवीएम और चुनाव अधिकारी सुरक्षित हैं.

गुरुवार शाम असम के करीमगंज इलाके में हिंसा तब भड़क गई, जब स्थानीय लोगों ने पाया कि चुनाव अधिकारी बीजेपी विधायक कृष्णेंदु पॉल से संबंधित वाहन में ईवीएम ले जा रहे हैं. पॉल के परिजन के नाम पर रजिस्टर्ड महिंद्रा बोलेरो में ईवीएम मिली थी. वोटिंग के बाद मशीन को स्ट्रॉन्ग रूम में ले जाया जा रहा था. इस मामले में चुनाव आयोग ने अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है. हालांकि, जिला निर्वाचन अधिकारी की तरफ से दाखिल की गई शुरुआती रिपोर्ट में बताया गया है कि पोलिंग पार्टी को 'इस बात की जानकारी नहीं थी कि वे जिस गाड़ी में सफर कर रहे हैं, वह बीजेपी विधायक की थी.'

Youtube Video




रिपोर्ट के अनुसार, राताबारी संवैधानिक क्षेत्र के स्थित इंदिरा एमवी स्कूल के मतदान केंद्र के अधिकारी स्ट्रॉन्ग रूम की तरफ जा रहे थे. इस दौरान उनकी गाड़ी खराब हो गई. इसके बाद वे चुनाव अधिकारियों से संपर्क नहीं बना पाए और पास से गुजर रही गाड़ी से लिफ्ट मांग ली. जबकि, गाड़ी चुनाव उम्मीदवार और पठारखंडी विधायक की थी. चुनाव आयोग के अधिकारियों के अनुसार, जिला निर्वाचन अधिकारी की रिपोर्ट में कहा गया है कि ईवीएम पर सील लगी हुई थी. कोई भी कार्रवाई किए जाने से पहले रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है.

खास बात है कि लिफ्ट मांगने के बाद जैसे ही गाड़ी स्ट्रॉन्ग रूम के नजदीक पहुंची, तो विपक्ष के समर्थकों ने गाड़ी को पहचान लिया और उस पर हमला कर दिया. हालात को देखकर पुलिस स्टाफ सुरक्षा के लिए भागकर पहुंचा. विपक्ष ने इस घटना के हवाले से बीजेपी पर ईवीएम कैप्चर करने के आरोप लगाए हैं. कांग्रेस के गौरव गोगोई ने कहा, 'यही एक तरीका है, जिससे बीजेपी असम में जीत सकती है.' इसके अलावा कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, AIUDF नेता बदरुद्दीन अजमल ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज