नागांव गैंगरेप और हत्या के केस में कोर्ट ने दोषी को सुनाई फांसी की सजा

नागांव जिले के धनियाभेंटी लालुंग गांव में 23 मार्च को घर में अकेली कक्षा पांच की छात्रा को सामूहिक बलात्कार के बाद जला दिया गया था.

भाषा
Updated: September 7, 2018, 10:50 PM IST
नागांव गैंगरेप और हत्या के केस में कोर्ट ने दोषी को सुनाई फांसी की सजा
सांकेतिक तस्वीर
भाषा
Updated: September 7, 2018, 10:50 PM IST
असम में नागांव की एक अदालत ने मार्च में जिले में 11 वर्षीय लड़की से सामूहिक बलात्कार और हत्या के मुख्य आरोपी जाकिर हुसैन को शुक्रवार को फांसी की सजा सुनाई. जिला एवं सत्र न्यायाधीश रीता कार ने हुसैन (19) को हत्या के लिए फांसी की सजा और नाबालिग लड़की से बलात्कार के लिए पोक्सो कानून के तहत आजीवन कारावास की सजा सुनाई.

अदालत ने 4 सितम्बर को उसे दोषी ठहराया था और पांच अन्य आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था. जांच टीम का हिस्सा रहे नागांव के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रिपुल दास ने कहा कि दो अन्य नाबालिग आरोपी भी दोषी ठहराए गए थे और उन्हें इस सप्ताह के शुरू में एक किशोर अदालत ने तीन वर्ष के लिए सुधार गृह भेज दिया था.

नागांव जिले के धनियाभेंटी लालुंग गांव में 23 मार्च को घर में अकेली कक्षा पांच की छात्रा को सामूहिक बलात्कार के बाद जला दिया गया था. युवक अपराध के बाद मौके से फरार हो गए और लड़की को गुवाहाटी मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसने अगले दिन दम दोड़ दिया.

बतद्रव पुलिस थाने में एक मामला दर्ज किया गया और आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने तेजी से जांच करते हुए 28 अप्रैल को आठ व्यक्तियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया.

घटना को लेकर पूरे राज्य में व्यापक प्रदर्शन हुए थे. असम सरकार ने विधानसभा में घोषणा की कि वह सदन के अगले सत्र में बलात्कार रोधी एक कड़ा कानून ले आएगी.

सरकार ने यह भी घोषणा की कि एक विशेष अभियान के जरिये महिला उप निरीक्षकों की भर्ती की जाएगी ताकि पुलिस बल में महिलाओं की संख्या 30 प्रतिशत हो.

ये भी पढ़ें: 11 साल की बच्ची से गैंगरेप के बाद स्कूलमेट्स ने किया आग के हवाले
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर