लाइव टीवी

फिलहाल जम्मू-कश्मीर के नेताओं को हिरासत में रखे रहना क्रूरता: उमर

News18Hindi
Updated: March 25, 2020, 1:19 PM IST
फिलहाल जम्मू-कश्मीर के नेताओं को हिरासत में रखे रहना क्रूरता: उमर
नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला 5 अगस्त से हिरासत में थे.(फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला (Omar abudllah)को करीब आठ महीने की हिरासत के बाद मंगलवार को रिहा किया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2020, 1:19 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. नेशनल कॉन्फ्रेंस (National Confrence) के नेता उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) ने बुधवार को उम्मीद जताई कि सरकार पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) समेत जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के नेताओं को हिरासत से रिहा करेगी. उन्होंने कहा कि देश में तीन हफ्ते का लॉकडाउन (Lockdown in India) हो गया है और ऐसे में इन नेताओं को हिरासत में रखे रहना क्रूरता होगी.

पिछले साल पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाला अनुच्छेद 370 हटाए  (Article 370) जाने के बाद महबूबा मुफ्ती, नईम अख्तर, अली मोहम्मद सागर, पीर मंसूर और शाह फैजल समेत कुछ नेताओं को एहतियाती हिरासत में लिया गया था और अब वे जन सुरक्षा कानून के तहत हिरासत में हैं.

उमर को मंगलवार को रिहा किया गया
उमर ने ट्वीट किया, ‘वर्तमान हालात में महबूबा मुफ्ती तथा अन्य को लगातार हिरासत में रखना संवेदनहीनता और क्रूरता है. पहली बात तो इन सभी को हिरासत में रखने का कोई औचित्य ही नहीं है, खासतौर पर ऐसे वक्त तो बिलकुल भी नहीं जब देश में तीन सप्ताह का बंद है. मुझे प्रधानमंत्री कार्यालय, गृह मंत्रालय से उम्मीद है कि उन्हें रिहा किया जाएगा.’






उमर को करीब आठ महीने की हिरासत के बाद मंगलवार को रिहा किया गया था. पांच अगस्त से हिरासत में रहे उमर पर फरवरी में जन सुरक्षा कानून के तहत आरोप लगाए गए थे.

यह भी पढ़ें: रिहा हुए उमर अब्‍दुल्‍ला ने 8 महीने बाद परिवार संग किया लंच, ट्वीट कर ऐसे जताया दर्द

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 1:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर