अठावले ने कहा- SC/ST अधिनियम में नहीं की जाएगी संशोधन की समीक्षा

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम में बदलाव की मांग करने वालों को 'दलितों' को लेकर अपने व्यवहार में बदलाव लाना चाहिए और उनसे अच्छे से पेश आना चाहिए.'

भाषा
Updated: September 7, 2018, 8:30 AM IST
अठावले ने कहा- SC/ST अधिनियम में नहीं की जाएगी संशोधन की समीक्षा
File photo of Union Social Justice Minister Ramdas Athawale. (PTI)
भाषा
Updated: September 7, 2018, 8:30 AM IST
केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि एससी/एसटी अधिनियम में संसद द्वारा किए गए संशोधन की समीक्षा नहीं की जाएगी. एससी/एसटी अधिनियम में संशोधन को लेकर कुछ संगठनों द्वारा किए गए भारत बंद के चलते उन्होंने यह बात कही.

महाराष्ट्र के नागपुर में अठावले ने कहा कि उनकी पार्टी (रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया) ‘दलित’ शब्द के इस्तेमाल को लेकर सरकार द्वारा जारी परामर्श के खिलाफ है.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम में बदलाव की मांग करने वालों को 'दलितों' को लेकर अपने व्यवहार में बदलाव लाना चाहिए और उनसे अच्छे से पेश आना चाहिए.'

बता दें कि रामदास अठावले ने कहा था कि बंबई हाईकोर्ट की नागपुर खंडपीठ के बोलचाल और मीडिया में 'दलित' शब्द के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाए जाने के फैसले के खिलाफ उनकी पार्टी आरपीआई (ए) सुप्रीम कोर्ट में अपील करेगी.

अठावले ने एक बयान में कहा था, 'सरकारी कामकाज में अनुसूचित जाति शब्द का इस्तेमाल उचित है और मैं इससे सहमत हूं, लेकिन व्यावहारिक भाषा में दलित शब्द का इस्तेमाल करने या नहीं करने का निर्णय आम जनमानस के ऊपर छोड़ देना चाहिए.'
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर