Home /News /nation /

मोदी के मास्टर स्ट्रोक के बाद विपक्ष के पास क्या है रास्ता

मोदी के मास्टर स्ट्रोक के बाद विपक्ष के पास क्या है रास्ता

पीएम मोदी (फ़ाइल)

पीएम मोदी (फ़ाइल)

मोदी के इस मास्ट्रर स्ट्रोक के बाद विपक्ष सकते है में है. आतंकवाद, राफेल, बेरोजगारी जैसे मुद्दे अब कमजोर पड़ गए हैं ऐसे में विपक्ष को शांत रहकर मोदी सरकार की किसी गलती का इंतजार करना होगा

आम चुनावों की घोषणा के ठीक पहले पाकिस्तान के बालकोट में एअर स्ट्राइक के फैसले, कश्मीर और आतंकवाद पर लगातार हमला कर रहे विपक्ष को बैकफुट पर ला दिया है. उरी में सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले के बाद हुई सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगने वाले कई नेताओं को इस बार समझ नहीं आ रहा है कि इस मामले पर बोले तो क्या बोले.

विपक्ष ने सेना को दी बधाई लेकिन सरकार को श्रेय देने पर चुप्पी

विपक्ष के सबसे बड़े चेहरे राहुल गांधी ने सिर्फ एक लाइन में एअर फोर्स के पायलट को सल्यूट कर सेना को बधाई दे दी. कुछ इसी अंदाज में समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के सीएम चन्द्रबाबू नायडू ने भी एअर फोर्स को इस जबाबी कार्रवाई का श्रेय दिया है. साफ है विपक्ष को ये समझ नहीं आ रहा है कि लगातार पाकिस्तान पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग करने वाला विपक्ष अब प्रधानमंत्री मोदी पर हमला करे तो करे कैसे और आम चुनावों की घोषणा के कुछ दिन पहले हुई इस कार्रवाई का श्रेय प्रधानमंत्री को दे तो दे कैसे. क्योंकि प्रधानमंत्री को इसका श्रेय देना विपक्ष के लिए आत्मघाती हो जाएगा.

सिर्फ मायावती ही है सरकार पर हमलावर
विपक्ष के नेताओं में बीएसपी सुप्रीमों मायावती ही अकेली ऐसी बड़ी नेता दिख रही हैं जो इस बार भी प्रधानमंत्री मोदी पर हमलवार है. माया ने सेना को फ्री हैंड देने में देरी के बहाने प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोल दिया है. लेकिन चुनावों की उल्टी गिनती के बीच ये काफी नहीं हैं क्योंकि मायावती के इस वार पर उनके साथ कोई खड़ा नहीं दिख रहा. यहां तक उनके साथ चुनावी गठबंधन के साथी अखिलेश भी अभी प्रधानमंत्री मोदी पर हमला करने के लिए इस समय को सही नहीं मान रहे हैं.

चुनाव में विपक्ष के पास बचा ये हथियार
वरिष्ट पत्रकार एन के सिंह मानते है कि मोदी के इस मास्ट्रर स्ट्रोक के बाद विपक्ष सकते है में है. आतंकवाद, राफेल, बेरजगारी जैसे मुद्दे अब कमजोर पड़ गए हैं ऐसे में विपक्ष को शांत रहकर मोदी सरकार की किसी गलती का इंतजार करना होगा क्योंकि फिलहाल मोदी सरकार की आलोचना उल्टी पड़ सकती हैं. विपक्ष को कम से कम एक सप्ताह तक तो चुप्पी साधनी ही पड़ेगी. वरिष्ठ पत्रकार राम कृपाल सिंह भी एन के सिंह की इस राय से इतेफाक रखते हैं. राम कृपाल सिंह का मानना है कि पाकिस्तान पर इस एअर स्ट्राइक के बाद आम चुनावों की तस्वीर पूरी तरह बदलती दिख रही है. विपक्ष को अब मोदी सरकार की आलोचना से कोई फायदा नहीं मिलने वाला है ऐसे में विपक्ष के पास सिर्फ एक ही रास्त बचता है कि वो अपने शासन में चल रही लोक कल्याणकारी योजनाओं की तुलना बीजेपी सरकार की योजनाओं से करे और उसमें ये साबित करे की उनकी योजनाएं अच्छी हैं. यानि चुनाव में अब मोदी की आलोचना की बजाय अपने को मोदी से अच्छा साबित करना होगा.

आखिर क्यों बंधे हुए हैं पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के हाथ?

पूर्व एयरचीफ मार्शल पीवी नाइक ने बताया कैसे होती है एयर स्ट्राइक

Tags: India pakistan, Narendra modi, Pulwama, Pulwama attack

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर