अपना शहर चुनें

States

जजों की रिटायरमेंट की आयु और उनका वेतन बढ़ाने के पक्ष में हैं अटॉर्नी जनरल

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल इस विचार से इत्तेफाक नहीं रखते हैं कि रिटायरमेंट के बाद न्यायाधीशों को अधिकरण/पंचाट में काम नहीं करना चाहिए.

  • Share this:
अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के न्यायाधीशों की रिटायरमेंट की आयु क्रमश: 65 और 62 वर्ष से बढ़ाने का सोमवार को समर्थन किया. उन्होंने यह भी कहा कि एक औसत वकील की आय के मुकाबले न्यायाधीशों का वेतन बहुत कम है और उसे दो-तीन गुना बढ़ाया जाना चाहिए.

निवर्तमान चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के विदाई समारोह में वेणुगोपाल ने कहा कि जहां तक बात न्यायाधीशों की है, फिर चाहे वह रिटायरमेंट की क्यों ना हों, उन्हें ‘‘निष्क्रिय’’ नहीं बनने देना चाहिए. अच्छे न्यायाधीश पाना आसान नहीं है.

ये भी पढ़ें- फेयरवेल स्पीच में बोले CJI- लोगों का इतिहास नहीं, काम देखकर लिए फैसले



उन्होंने कहा, आशा करते हैं कि भविष्य में भी चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा लंबे समय तक हमारे साथ बने रहेंगे. मुझे याद है कि कुछ समय पहले भी किसी अन्य न्यायाधीश की रिटायरमेंट पर मैंने यही कहा था. मुझे नहीं पता कि ऐसा हुआ है या नहीं.
वेणुगोपाल इस विचार से इत्तेफाक नहीं रखते हैं कि रिटायरमेंट के बाद न्यायाधीशों को अधिकरण/पंचाट में काम नहीं करना चाहिए. उनका कहना है, आप प्रतिभा को यूं ही बेकार नहीं कर सकते हैं.

पिछले कुछ महीनों में ‘‘रेकॉर्ड’’ फैसला देने के लिए जस्टिस मिश्रा की तारीफ करते हुए वेणुगोपाल ने कहा, बार-बार उन्हें लैंगिक न्याय से जूझना पड़ा, बार-बार उन्होंने महिलाओं के हक में फैसले दिए और इसलिए जहां तक उनकी बात है अखबारों ने उन्हें ‘जेंडर वॉरियर’ (लैंगिक समानता के लिए लड़ने वाला योद्धा) करार दे दिया है.’’

ये भी पढ़ेंः जस्टिस चेलामेश्वर के बाद CJI को सरकार की चिट्ठी, कर्नाटक जज के खिलाफ ठीक से नहीं हुई जांच

वेणुगोपाल का कहना है, हमें यह याद रखना चाहिए कि भारत में औसत आयु 73 वर्ष है. क्या आप न्यायाधीशों को हाई कोर्ट से 62 वर्ष की आयु में और सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों को 65 वर्ष की आयु में रिटायरमेंट होने की अनुमति देंगे और फिर उन्हें विदा कर देंगे. आप शीर्ष अदालत और अन्य अदालतों के गलियारों में 62 और 65 वर्ष आयु से कहीं ज्यादा उम्र के वकीलों को यूं ही घूमते हुए देख सकते हैं.

ये भी पढ़ेंः जस्टिस गोगोई को CJI नहीं बनाया गया, तो हमारा डर सही साबित होगा: जस्टिस चेलमेश्वर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज