अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल चाहते हैं, पाकिस्‍तान की शीर्ष अदालत को फॉलो करे हमारा सुप्रीम कोर्ट

अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल चाहते हैं, पाकिस्‍तान की शीर्ष अदालत को फॉलो करे हमारा सुप्रीम कोर्ट
अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने पाकिस्‍तान के सुप्रीम कोर्ट को फॉलो करने की कही बात तो सीजेआई एसए बोबडे ने ये जवाब दिया.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में नागरिकता संशोधित कानून 2019 (CAA 2019) को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल (AG Kk Venugopal) ने कहा कि हमें पाकिस्‍तान (Pakistan) की शीर्ष अदालत को फॉलो करना चाहिए. वह केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2019, 3:48 PM IST
  • Share this:
उत्‍कर्ष आनंद

नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में नागरिकता संशोधित कानून 2019 (CAA 2019) को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से पेश अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल (AG KK Venugopal) ने अजीब मांग रख दी. उन्‍होंने भारत की शीर्ष अदालत को पाकिस्‍तान (Pakistan) के सुप्रीम कोर्ट का अनुसरण (Follow) करने की मांग की. उन्‍होंने कहा कि हमारे यहां भी पाकिस्‍तान के सुप्रीम कोर्ट की तरह बीच में एक पोडियम लगाया जाना चाहिए.

वेणुगोपाल ने कहा - बीच में लगाया जाना चाहिए पोडियम
वेणुगोपाल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में एक साथ कई वकील (Lawyers) बोलना शुरू कर देते हैं. अगर कोर्ट रूम के बीच में एक पोडियम (Podium) लगा दिया जाए तो एक समय पर एक ही वकील को बोलने का पूरा मौका मिलेगा. हमारे यहां एक ही समय में 10 वकील एक साथ बोलना शुरू कर देते हैं. इससे किसी को कुछ समझ नहीं आता. पोडियम लगाने के बाद सिर्फ एक वकील के बोलने से आपको भी समझने में आसानी होगी. दरअसल, मामले की सुनवाई के दौरान जब सबसे पहले वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता कपिल सिब्‍बल (Kapil Sibal) ने बोलना शुरू किया तो कई अन्‍य वकील बीच में कूद पड़े और बोलना शुरू कर दिया.



'दुनिया के किसी देश में एकसाथ नहीं बोलते कई वकील'


वेणुगोपाल इस पर झल्‍ला गए. उन्‍होंने कहा, 'ये सिर्फ हमारे सुप्रीम कोर्ट में ही हो सकता है कि कई वकील एक साथ बोलने लगें. ये दुनिया के किसी दूसरे देश में नहीं हो सकता है. इस पर मुख्‍य न्‍यायाधीश एसए बोबडे (CJI SA Bobde) ने कहा, 'हमें नहीं पता कि ऐसा कहीं और होता है या नहीं.' इस पर वेणुगोपाल ने कहा कि मैं एक मामले में पाकिस्‍तान की शीर्ष अदालत में था. वहां ऐसा नहीं होता है. उनके सुप्रीम कोर्ट में एक पोडियम है. एक वकील पोडियम पर आता है और अपनी बात रखता है.

'यही वकील हाईकोर्ट में ज्‍यादा अनुशासित नजर आते हैं'
वेणुगोपाल ने कहा कि हमारे यहां राज्‍यों के हाईकोर्ट में भी यहां से बेहतर स्थिति है. यही वकील जब हाईकोर्ट जाते हैं तो ज्‍यादा अनुशासित नजर आते हैं. वहां इनका व्‍यवहार अलग होता है. यहां आते ही ये सभी एक साथ बोलने लगते हैं. इस पर सीजेआई बोबडे ने कहा कि वह खुद भी वकीलों से एक साथ नहीं बोलने को कहते रहते हैं. ये उन पर है कि वे इस पर विचार करें. अब आपने भी ये बात सभी के सामने रख दी है. उन्‍हें इस बारे में सोचना चाहिए.

ये भी पढ़ें:-

रंजीत रंजन बोलीं- संविधान की धज्जियां उड़ा रहा केंद्र, सुधांशु ने दिया ये जवाब

गडकरी ने कहा, कुछ पार्टियों ने 50 साल में मुस्लिमों को सिर्फ चार धंधे दिए
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading