कोरोना से लड़ाई में ऑस्ट्रेलिया ने दिखाई भारत के साथ एकजुटता, तिरंगे के रंग में रंगी लाइब्रेरी

ऑस्ट्रेलिया की न्यू साउथ वेल्स यूनिवर्सिटी (Photo-ANI)

ऑस्ट्रेलिया की न्यू साउथ वेल्स यूनिवर्सिटी (Photo-ANI)

Coronavirus in India: कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी की दूसरी लहर से लड़ाई लड़ रहे भारत के साथ अब ऑस्ट्रेलिया की न्यू साउथ वेल्स यूनिवर्सिटी भी खड़ी हो गई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया (Australia) की न्यू साउथ वेल्स यूनिवर्सिटी, सिडनी ने भारत के साथ एकजुटता दिखाने के लिए अपने मुख्य पुस्तकालय के टावर में तिरंगे के रंग की लाइट्स जलाईं. इसके साथ ही इसपर भारत के छात्रों और दोस्तों के लिए संदेश भी लिखा हुआ है. टावर पर लिखा गया है- "महामारी से जूझ रहे भारत और सभी लोग मजबूत बने रहें." कोरोना महामारी की दूसरी लहर का प्रकोप झेल रहे भारत के साथ इस समय ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात जैसे कई देश खड़े हैं. इसके दो हफ्ते पहले ही भारत को समर्थन देने के लिए संयुक्त अरब अमीरात में स्थित दुनिया की सबसे बड़ी इमारत बुर्ज खलीफा पर तिरंगे के रंगों की लाइटिंग कर भारत के प्रति उनके समर्थन को दिखाया गया. बुर्ज खलीफा के साथ ही आबू धाबी के नेशनल ऑयल कंपनी के मुख्यालय पर भी भारतीय झंडे को दर्शाया गया था.

गौरतलब है कि देश में एक दिन में 3,43,144 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने के बाद कोविड-19 के मामले बढ़कर 2,40,46,809 हो गए हैं जबकि 4,000 और लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 2,62,317 हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 37,04,893 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 15.41 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 83.50 प्रतिशत हो गई है.

भारत में मृत्यु दर 1.09 प्रतिशत

आंकड़ों के मुताबिक, बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या 2,00,79,599 हो गई है जबकि संक्रमण से मृत्यु दर 1.09 फीसदी दर्ज की गई है. देश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या पिछले साल सात अगस्त को 20 लाख को पार कर गई थी. वहीं कोविड-19 मरीजों की संख्या 23 अगस्त को 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख के आंकड़े को पार कर गई थी.
इसके बाद 28 सितंबर को कोविड-19 के मामले 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख, 19 दिसंबर को एक करोड़ के पार हो गए थे. भारत ने चार मई को गंभीर स्थिति में पहुंचते हुए दो करोड़ मामलों का आंकड़ा पार कर लिया था.

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के मुताबिक, 13 मई तक 31,13,24,100 नमूनों की जांच की गई है जिनमें से 18,75,515 नमूनों की बृहस्पतिवार को जांच की गई.




देश में अब तक 2,62,317 लोगों की मौत हुई है जिसमें से 78,857 मरीजों की मौत महाराष्ट्र में, कर्नाटक में 20,712, दिल्ली में 20,618, तमिलनाडु में 16,768, उत्तर प्रदेश में 16,646, पश्चिम बंगाल में 12,857, पंजाब में 11,297 और छत्तीसगढ़ में 11,289 लोगों की मौत हुई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 70 प्रतिशत से अधिक मौत अन्य गंभीर बीमारियों के चलते हुई हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज