2019 में हर रोज 381 लोगों ने की खुदकुशी, इन 5 राज्‍यों में 50% केस: NCRB डेटा

2019 में हर रोज 381 लोगों ने की खुदकुशी, इन 5 राज्‍यों में 50% केस: NCRB डेटा
एनसीआरबी के डाटा के मुताबिक, 100 लोगों में 70.2% पुरुष और 29.8% महिलाओं ने आत्महत्या की.

भारत में प्रति एक लाख जनसंख्या पर आत्महत्या की दर (Suicide Rate) में 2018 की तुलना में इस साल 0.2% की बढ़ोतरी दर्ज की गई. शहरों में सुसाइड की दर 13.9% रही, यह पूरे देश में सुसाइड की दर 10.4% से काफी ज्यादा है. 2017 में 1 लाख 29 हजार 887, जबकि 2018 में 1 लाख 34 हजार 516 सुसाइड रिकॉर्ड किए गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2020, 8:24 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के आंकड़ों के अनुसार भारत में 2019 में हर दिन औसतन 381 लोगों ने आत्महत्या (Suicide) की. इस तरह पूरे साल में कुल 1,39,123 लोगों ने अपनी जान ले ली. एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार, 2018 के मुकाबले 2019 में आत्महत्या के मामलों में 3.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. पिछले साल जहां 1,39,123 लोगों ने आत्महत्या की. 2018 में 1,34,516 लोगों ने और 2017 में 1,29,887 लोगों ने खुदकुशी कर ली. सुसाइड के 49.5 मामले सिर्फ पांच राज्यों में, जबकि 50.5% मामले 24 राज्य और 7 केंद्रशासित राज्यों में सामने आए.

न्यूज़ एजेंसी PTI के मुताबिक, भारत में प्रति एक लाख जनसंख्या पर आत्महत्या की दर में 2018 की तुलना में इस साल 0.2% की बढ़ोतरी दर्ज की गई. शहरों में सुसाइड की दर 13.9% रही, यह पूरे देश में सुसाइड की दर 10.4% से काफी ज्यादा है. 2017 में 1 लाख 29 हजार 887, जबकि 2018 में 1 लाख 34 हजार 516 सुसाइड रिकॉर्ड किए गए थे. सुसाइड की दर (1 लाख की जनसंख्या पर) में भी 2018 की तुलना में इस साल 0.2% की बढ़ोतरी दर्ज की गई. शहरों में सुसाइड की दर 13.9% रही, यह पूरे देश में सुसाइड की दर 10.4% से काफी ज्यादा है.

साल 2019 में सबसे ज्यादा इन राज्यों में हुए सुसाइड



राज्य        सुसाइड     कुल केस का प्रतिशत
महाराष्ट्र     18,916          13.6%
तमिलनाडु  13,493          9.7%
प. बंगाल    12,665          9.1%
मध्यप्रदेश   12,457         9.0%
कर्नाटक     11,288          8.1%

100 लोगों में 70.2% पुरुष और 29.8% महिलाएं
एनसीआरबी के डाटा के मुताबिक, 100 लोगों में 70.2% पुरुष और 29.8% महिलाओं ने आत्महत्या की. फांसी से 53.6%, जहर खाने से 25.8%, डूबने से 5.2% और आत्मदाह के जरिए 3.8% लोगों ने सुसाइड किया.

SSR Case: नहीं मिला हत्या का एक भी सबूत, AIIMS की फॉरेंसिक रिपोर्ट का इंतजार

आत्महत्याओं के 32.4% मामलों के पीछे पारिवारिक विवाद
एनसीआरबी के डाटा के मुताबिक, इनमें से आत्महत्याओं के 32.4% मामलों के पीछे पारिवारिक विवाद कारण था. 5.5% सुसाइड के पीछे शादी और 17.1% सुसाइड के पीछे बीमारी को अहम वजह बताया गया. सुसाइड करने वाले हर 100 लोगों में 70.2% पुरुष और 29.8% महिलाएं शामिल थीं.

उत्तर प्रदेश में 3.9% सुसाइड
उत्तर प्रदेश में 3.9% सुसाइड डाटा में बताया गया कि इन 5 राज्यों में देश के कुल सुसाइड के 49.5% मामले रिकॉर्ड हुए. जनसंख्या के आधार पर काफी बड़ा प्रदेश उत्तर प्रदेश में इस दौरान सिर्फ 3.9% सुसाइड रिकॉर्ड किए गए. मास या फैमिली सुसाइड के सबसे ज्यादा मामले तमिलनाडु (16), आंध्र प्रदेश (14), केरल (11), पंजाब (9) और राजस्थान (7) में सामने आए. (PTI इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज