Assembly Banner 2021

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का औसत स्तर पिछले साल से ज्यादा : सीएसई

दिल्‍ली और उसके आसपास के इलाकों में प्रदूषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है.

दिल्‍ली और उसके आसपास के इलाकों में प्रदूषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है.

राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली और उसके आसपास के इलाकों (Delhi-NCR) में प्रदूषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है. संस्था ‘सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट’ (सीएसई) ने भी इसकी पुष्टि कर दी. संस्‍था ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर में 2020-21 की सर्दियों के दौरान प्रदूषण का औसत स्तर पिछले साल से ज्यादा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 3, 2021, 11:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था ‘सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट’ (सीएसई) ने बुधवार को कहा कि दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में 2020-21 की सर्दियों के दौरान प्रदूषण का औसत स्तर पिछले साल से ज्यादा था लेकिन ‘स्मॉग’ की अवधि और तीव्रता कम थी.

सीएसई ने कहा कि ‘ग्रेडेड रिपॉन्स एक्शन प्लान’ (जीआरएपी) के क्रियान्वयन के लिए इस क्षेत्र में 15 अक्टूबर से एक फरवरी तक के कालखंड को आधिकारिक तौर पर सर्दी का मौसम माना जाता है. विश्लेषण में कहा गया कि इस बार सर्दियों के मौसम में 23 दिन ऐसे थे जब शहर में पीएम 2.5 कणों की मात्रा ‘गंभीर’ या ‘खराब’ एक्यूआई श्रेणी में दर्ज की गई. यही मात्रा, 2018-19 के दौरान 33 दिनों में और 2019-20 के बीच 25 दिनों में आंकी गई थी.

ये भी पढ़ें  Delhi-NCR Pollution: बवाना देश का सबसे प्रदूषित इलाका, 900 के पार पहुंचा AQI



विश्लेषण में यह भी कहा गया कि दिल्ली के आसपास के चार शहरों में से गाजियाबाद सबसे ज्यादा प्रदूषित (polluted) रहा. इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में उत्तरी दिल्ली सर्वाधिक प्रदूषित क्षेत्र दर्ज किया गया जहां स्थित जहांगीरपुरी की हवा में प्रदूषण सबसे ज्यादा था.
ये भी पढ़ें  Pollution Check: दिल्ली-NCR में गाजियाबाद सबसे प्रदूषित शहर, देशभर में मुरादाबाद की हवा खराब 

सीएसई में अनुसंधान और वकालत की कार्यकारी निदेशक अनुमिता रायचौधुरी ने कहा, “सर्दियों के समय प्रदूषण के अध्ययन में विशेष रूप से दिलचस्पी होती है. इस साल महामारी के कारण असाधारण स्थिति थी और इस क्षेत्र में वातावरण की स्थितियों, शांत हवा और ठंड के
मौसम के कारण सर्दियां बेहद कठिन होती हैं.”

उन्होंने कहा, “सर्दियों की हवा में स्थानीय प्रदूषण कारक तत्व फंस जाते हैं और इससे घातक स्मॉग जनित होता है. दिल्ली-एनसीआर के लोग इससे भली भांति परिचित हैं.” मालूूूम हो देश का सबसे प्रदूषित शहर उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद है, तो दिल्‍ली-एनसीआर  का सबसे प्रदूषित शहर गाजियाबाद है. यहां का एक्‍यूआई (AQI) 320 दर्ज किया गया, सबसे अधिक प्रदूषण औद्योगिक क्षेत्रों में रहा. इन इलाकों के आसपास रहने वाले लोगों को आंखों में जलन की शिकायत भी रही. वहीं, देश के सबसे प्रदूषित शहर में शुमार रहे मुरादाबाद का एक्‍यूआई 337 दर्ज किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज