अपना शहर चुनें

States

घरेलू उड़ान के यात्रियों को क्वारंटाइन में रखने की जरूरत नहीं लगती- उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी

पुरी ने कहा कि बसों और ट्रेनों के क्वारंटाइन स्टैंडर्ड को हवाई यात्रा पर लागू नहीं किया जा सकता.
पुरी ने कहा कि बसों और ट्रेनों के क्वारंटाइन स्टैंडर्ड को हवाई यात्रा पर लागू नहीं किया जा सकता.

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri) ने घरेलू उड़ानों के यात्रियों को क्वारंटाइन (Quarantine) किए जाने के सवाल पर कहा कि इस मामले पर व्यावहारिक तरीके से निपटा जाना चाहिए.

  • Share this:
नई दिल्ली. 25 मई से देश में शुरू हो रही एक तिहाई घरेलू उड़ानों को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri) ने गुरुवार को महत्वपूर्ण जानकारियां दीं. इन घरेलू उड़ानों के यात्रियों को क्वारंटाइन (Quarantine) किए जाने के सवाल पर पुरी ने कहा कि इस मामले पर व्यावहारिक तरीके से निपटा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि सरकार को लगता है कि इस तरह के उपायों की आवश्यकता नहीं है.

पुरी ने कहा कि यात्रियों के क्वारंटाइन किए जाने को लेकर व्यावहारिक सोच रखनी चाहिए. उन्होंने उदाहरण के तौर पर कहा, 'अगर मैं केरल जाता हूं, तो मुझे 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन में रहना होगा. जब मैं वापस आऊंगा, तो क्या मुझे 14 दिनों के लिए फिर से क्वारंटाइन में भेजा जाएगा? यह व्यावहारिक नहीं है.'

बस और ट्रेन से सफर करने वाले यात्री किए जा रहे क्वारंटाइन
पुरी ने आगे कहा कि बसों और ट्रेनों के क्वारंटाइन स्टैंडर्ड को हवाई यात्रा पर लागू नहीं किया जा सकता.
बता दें बस या ट्रेन से यात्रा करने पर यात्रियों को अपने गंतव्य पर पहुंचने के बाद 14 दिन के लिए क्वारंटाइन में रहना होता है. उन्होंने यात्रियों के लिए जारी किए गए नए संशोधित एसओपी की तरफ ध्यान इंगित करते हुए कहा कि इसके तहत संदिग्ध लक्षण वाले यात्रियों को यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी. पुरी ने कहा 'अगर आप कोरोना पॉजिटिव पाए जाते हैं, तो आपको हवाई अड्डे में फ्लाइट बोर्ड करने की अनुमति भी नहीं दी जाएगी.'



इससे पहले अपनी डिजिटल प्रेस ब्रीफिंग में पुरी ने कहा कि सरकार का मानना था कि शॉर्ट-फ्लाइट उड़ानों में यात्रियों को क्वारंटाइन में जाने की जरूरत नहीं है, लेकिन लंबी उड़ानों से आने वाले लोगों को यह सुनिश्चित करने के लिए कि वह COVID-19 से संक्रममित तो नहीं हैं,14-दिन की आइसोलेशन अवधि से गुजरना होगा.

फ्लाइट्स के किराये को लेकर दी ये जानकारी
पुरी ने 25 मई से शुरू होने जा रही फ्लाइट्स के किराये को लेकर कहा कि हवाई यात्रा के किरायों की सीमाएं उड़ान की अवधियों के आधार पर सात बैंड (भागों) में बांटी गयी है और ये 24 अगस्त तक प्रभाव में रहेंगे. मंत्री ने बताया कि पहले बैंड में वो उड़ानें होंगी जिनकी उड़ान अवधि 40 मिनट से कम है. इनकी किराये की विशेष निम्न और उच्च सीमाएं होंगी.

उन्होंने कहा कि किराये की उच्च सीमा के दूसरे, तीसरे,चौथे और पांचवें बैंड में क्रमश: 40-60 मिनट, 60-90 मिनट, 90-120 मिनट और 120-150 मिनट की अवधि वाली उड़ानें होंगी. पुरी ने कहा कि छठे और सातवें बैंड में 150-180 मिनट और 180-210 मिनट अवधि वाली उड़ानें होंगी.

संवाददाता सम्मेलन में मौजूद विमानन सचिव पी एस खरोला ने कहा कि 40 प्रतिशत सीटें उड़ानों के लिए निर्धारित हवाई किराये की निम्नतम और अधिकतम सीमाओं के बीच वाले मूल्य पर बुक करनी होंगी. मंत्री ने कहा कि वह अभी इस बारे में टिप्पणी नहीं कर सकते कि उड़ान परिचालन पूरी तरह कब बहाल होगा.

(एजेंसी के इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें :-

'वंदे भारत मिशन के तहत आ चुके हैं 20000 से ज्यादा नागरिक, बढ़ाई जाएगी संख्या'

फ्लाइट्स का किराया हुआ तय, 3 महीने तक बस इतना किराया ही ले पाएंगी एयरलाइंस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज