अपना शहर चुनें

States

आयशा अजीज: देश की सबसे युवा महिला पायलट, महज 15 साल की उम्र में मिला था लाइसेंस

15 साल की उम्र में लाइसेंस पानी वाली आयशा अजीज सबसे युवा छात्र थीं. (फोटो: ANI/Twitter)
15 साल की उम्र में लाइसेंस पानी वाली आयशा अजीज सबसे युवा छात्र थीं. (फोटो: ANI/Twitter)

Ayesha Aziz: उन्होंने बॉम्बे फ्लाइंग क्लब (Bombay Flying Club) से ग्रेजुएशन की और 2017 में कमर्शियल लाइसेंस हासिल कर लिया था. अजीज का कहना है कि कम उम्र से ही सफर के शौक के चलते उन्होंने यह फील्ड चुनी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 10:35 AM IST
  • Share this:
श्रीनगर. एक ओर कश्मीर (Kashmir) कई तरह के तनावों से जूझ रहा है. वहीं, दूसरी ओर यहां रहने वाली 25 साल की आयशा अजीज महिलाओं के लिए प्रेरणास्त्रोत बनी हुईं हैं. कम उम्र में ही ऊंची उड़ाने भरने वाली अजीज देश की सबसे युवा महिला पायलट (Youngest Female Pilot) हैं. उनका मानना है कि कश्मीर की महिलाएं लगातार प्रगति कर रही हैं. उन्होंने कहा कि वे इस काम में आने वाली चुनौतियों को लेकर खुश हैं.

साल 2011 में अजीज ने लाइसेंस हासिल कर लिया था. उस समय उनकी उम्र महज 15 साल की थी. वे यह लाइसेंस पानी वाली सबसे युवा छात्र थीं. इसके अगले साल वे रूस के सोकोल एयरबेस से हुई MIG-29 की ट्रैनिंग से गुजरीं. बाद में उन्होंने बॉम्बे फ्लाइंग क्लब से ग्रेजुएशन की और 2017 में कमर्शियल लाइसेंस हासिल कर लिया था. अजीज का कहना है कि कम उम्र से ही सफर के शौक के चलते उन्होंने यह फील्ड चुनी है. वे कहती हैं कि पायलट बनने के लिए आपका दिमागी तौर से मजबूत होना बहुत जरूरी होता है.

यह भी पढ़ें: जो बाइडन: सबसे युवा सीनेटरों में से एक से, सबसे बुजुर्ग राष्ट्रपति तक का सफर



समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने बताया 'मैंने यह फील्ड इसलिए चुनी क्योंकि मुझे कम उम्र से ही सफर करना बहुत पसंद था और उड़कर काफी रोमांचित हो जाती थी. इस काम में आपको कई लोगों से मिलने का मौका मिलता है. इसलिए मुझे पायलट बनना था.' उन्होंने कहा 'यह थोड़ा चुनौतीभरा है क्योंकि यह आम 9-5 वाली नौकरी नहीं है. इसमें कोई तय पैटर्न नहीं है, मुझे लगातार नई जगहों, लोगों से मिलने और अलग-अलग तरह के मौसम का सामना करना पड़ता है.'

उन्होंने कहा 'मुझे लगता है कि कश्मीरी महिलाएं बहुत अच्छा काम कर रही हैं. खासतौर से शिक्षा के क्षेत्र में. कश्मीर की हर दूसरी महिला मास्टर्स या डॉक्ट्रेट कर रही है.' उन्होंने कहा कि घाटी के लोग बहुत अच्छा काम कर रहे हैं. इस काम में समय और माहौल को लेकर उन्होंने कहा कि वे इन चुनौतियों का सामना करने को लेकर खुश थीं. उन्होंने इस दौरान अपने माता-पिता का आभार जताया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज