अयोध्या मामला: मुस्लिम पक्ष की पैरवी करने पर मिली थी धमकी, राजीव धवन की याचिका पर कल होगी सुनवाई

उच्चतम न्यायालय राजीव धवन (Rajeev Dhavan) के, मामले की पैरवी करने पर कथित धमकी मिलने का आरोप लगाने वाली अवमानना याचिका (Contempt petition) पर मंगलवार को सुनवाई करेगा.

News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 1:09 PM IST
अयोध्या मामला: मुस्लिम पक्ष की पैरवी करने पर मिली थी धमकी, राजीव धवन की याचिका पर कल होगी सुनवाई
मुस्लिम पक्षकारों के वकील राजीव धवन, अवमानना याचिका पर कल होगी सुनवाई
News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 1:09 PM IST
अयोध्या मामला: उच्चतम न्यायालय  (Supreme court) अयोध्या मामले (Ayodhya dispute) में मुस्लिम पक्षकारों के वकील राजीव धवन (Rajeev Dhavan) की, मामले की पैरवी करने पर कथित धमकी मिलने का आरोप लगाने वाली अवमानना याचिका (Contempt petition) पर मंगलवार को सुनवाई करेगा. वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने एक पूर्व सरकारी अधिकारी पर धमकी देने का आरोप लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका दायर की थी.

सुप्रीम कोर्ट इस याचिका पर सुनवाई करने के लिए तैयार हो गया है. कपिल सिब्बल ने उनकी ओर से जल्द सुनवाई की मांग की थी.

राजीव धवन की ओर से कोर्ट को बताया गया है कि 88 साल के एक प्रोफेसर ने उनसे मुस्लिम पक्षकारों की पैरवी करने पर जान से मारने की धमकी दी है. सोमवार से ही सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन को अदालत में अपने तर्क शुरू करने थे, लेकिन उससे पहले ही उन्हें ये धमकी मिल गई. वकील की ओर से शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में आधिकारिक शिकायत दर्ज कराई गई थी.

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल से कहा कि अवमानना याचिका पर विचार किया जाएगा. सिब्बल यहां धवन की ओर से पेश हुए थे. पीठ ने कहा कि इसे कल सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया जाएगा.

न्यायमूर्ति एस.ए. बोबडे, न्यायमूर्ति डी. वाय. चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस.ए. नजीर भी इस पीठ में शामिल थे. प्रमुख याचिकाकर्ता एम सिद्दीक तथा ऑल इंडिया सुन्नी वक्फ़ बोर्ड की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने एक पूर्व सरकारी अधिकारी के खिलाफ शुक्रवार को शीर्ष अदालत में अवमानना याचिका दायर की थी.

इसमें उन्होंने आरोप लगाया गया था कि सेवानिवृत्त शिक्षा अधिकारी एन. षणमुगम से 14 अगस्त, 2019 को उन्हें एक पत्र मिला, जिसमें उन्हें मुस्लिम पक्षकारों की ओर से पेश होने की वजह से धमकी दी गयी थी.

उनका आरोप है कि उन्हें घर और न्यायालय परिसर में अनेक लोगों के धमकी देने वाले आचरण का सामना करना पड़ रहा है. धवन ने कहा, राजस्थान निवासी संजय कलाल बजरंगी से भी एक व्हाट्सएप संदेश मिला है, जो शीर्ष अदालत के न्याय प्रशासन में हस्तक्षेप का प्यास है. उन्होंने इस संदेश की प्रति भी अपनी याचिका के साथ संलग्न की है.
Loading...

ये भी पढ़ें : संसद हमला:100 करोड़ रुपये खर्च करने के बाद अब ऐसी है सुरक्षा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 1:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...