अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट में आज से शुरू होगी रोजाना सुनवाई

अयोध्या में 16वीं सदी में शिया मुस्लिम मीर बाकी द्वारा बनवाई गई बाबरी मस्जिद को छह दिसंबर, 1992 को कार सेवकों ने ध्वस्त कर दिया था.

News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 8:34 AM IST
अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट में आज से शुरू होगी रोजाना सुनवाई
प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान बेंच मामले की सुनवाई करेगी.
News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 8:34 AM IST
सुप्रीम कोर्ट राजनीतिक रूप से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में मंगलवार से रोजाना सुनवाई करेगा. मध्यस्थता के जरिये कोई आसान हल निकलने की कोशिश फेल होने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने मामले की रोजाना सुनवाई करने का फैसला किया है.

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान बेंच मामले की सुनवाई करेगी. इस बेंच में जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एसए नजीर भी शामिल हैं.

सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने शीर्ष अदालत के पूर्व न्यायाधीश एफएमआई कलीफुल्ला की अध्यक्षता में आठ मार्च को गठित की गई तीन सदस्यीय मध्यस्थता समिति की इस रिपोर्ट का संज्ञान लिया कि इस विवाद का सर्वमान्य हल खोजने के उसके प्रयास विफल हो गए हैं.

मध्यस्थता समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि हिन्दू और मुस्लिम पक्षकार इस पेचीदगी भरे विवाद का कोई सर्वमान्य समाधान नहीं खोज सके.


चार महीने तक चली माध्यस्थता के जरिये समाधान खोजने की कोशिश
जस्टिस कलीफुल्ला की अध्यक्षता वाली इस समिति ने करीब चार महीने तक माध्यस्थता के जरिये इस विवाद का समाधान खोजने का प्रयास किया था. मध्यस्थता समिति ने इस विवाद का समाधान खोजने के लिये अयोध्या से करीब सात किलोमीटर दूर फैजाबाद में बंद कमरे में संबंधित पक्षों से बातचीत की थी.

संविधान पीठ ने इससे पहले 18 जुलाई को मध्यस्थता समिति से कहा था कि वह अपनी कार्यवाही के नतीजों से 31 जुलाई या एक अगस्त तक न्यायालय को अवगत कराये, ताकि इस मामले में आगे की कार्यवाही शुरू की जा सके. मध्यस्थता समिति ने बीते गुरुवार को न्यायालय को सौंपी अपनी रिपोर्ट में कहा कि हिन्दू और मुस्लिम पक्षकार इस पेचीदगी भरे विवाद का कोई सर्वमान्य समाधान नहीं खोज सके.
Loading...

मध्यस्थता समिति की रिपोर्ट के अवलोकन के बाद शीर्ष अदालत ने कहा कि इस प्रकरण के पक्षकारों को अपीलों पर सुनवाई के लिए अब तैयार रहना चाहिए. न्यायालय ने रजिस्ट्री कार्यालय से भी कहा कि उसे भी दैनिक आधार पर इस मामले की सुनवाई के लिये न्यायालय के अवलोकन के उद्देश्य से सारी सामग्री तैयार रखनी चाहिए. कोर्ट ने कहा, 'हम यह स्पष्ट करते हैं कि इस मामले की सुनवाई दैनिक आधार पर बहस पूरी होने तक चलेगी.'

इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर 14 अपीलों पर होगी सुनवाई
प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ आज इलाहाबाद हाईकोर्ट के सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ दायर 14 अपीलों पर सुनवाई शुरू करेगी. हाईकोर्ट ने इस फैसले में अयोध्या में 2.77 एकड़ की विवादित भूमि इसके तीन पक्षकारों - सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बराबर बराबर बांटने का आदेश दिया था.

अयोध्या में 16वीं सदी में शिया मुस्लिम मीर बाकी द्वारा बनवाई गई बाबरी मस्जिद को छह दिसंबर, 1992 को कार सेवकों ने ध्वस्त कर दिया था. (भाषा इनपुट के साथ)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 6, 2019, 8:01 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...