अयोध्या में मंदिर शिलान्यास पर बोले राहुल गांधी- राम प्रेम हैं, कभी घृणा में प्रकट नहीं हो सकते

अयोध्या में मंदिर शिलान्यास पर बोले राहुल गांधी- राम प्रेम हैं, कभी घृणा में प्रकट नहीं हो सकते
राहुल गांधी (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बुधवार को अयोध्या में विधिवत भूमि पूजन (Ram Mandir Bhumi Pujan) के बाद मंदिर निर्माण के लिए पहली ईंट रखी. राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर राष्ट्रपति समेत दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर बधाई दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 5, 2020, 2:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राम की नगरी अयोध्या (Ayodhya Ram Mandir) में आज इतिहास रचा गया है. कई सालों तक अदालत में मामला चलने के बाद आखिरकार आज अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रख दी गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बुधवार को अयोध्या में विधिवत भूमि पूजन (Ram Mandir Bhumi Pujan) के बाद मंदिर निर्माण के लिए पहली ईंट रखी. राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर राष्ट्रपति समेत दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर बधाई दी है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया.

राम मंदिर की आधारशिला रखे जाने के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट किया है. राहुल ने लिखा- 'मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम सर्वोत्तम मानवीय गुणों का स्वरूप हैं. वे हमारे मन की गहराइयों में बसी मानवता की मूल भावना हैं. राम प्रेम हैं. वे कभी घृणा में प्रकट नहीं हो सकते. राम करुणा हैं. वे कभी क्रूरता में प्रकट नहीं हो सकते. राम न्याय हैं. वे कभी अन्याय में प्रकट नहीं हो सकते.'

Ram Mandir Bhumi Pujan: राम मंदिर से निकलेगा भाईचारे का संदेश, भूमि पूजा के बाद PM मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें





इससे पहले मंगलवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भूमि पूजन से पहले एक बयान में कहा था कि 'भगवान राम सबमें हैं और सबके हैं और ऐसे में पांच अगस्त को अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए होने जा रहा भूमि पूजन राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का कार्यक्रम बनना चाहिए.'

प्रियंका ने कहा था,‘राम साहस हैं, राम संगम हैं, राम संयम हैं, राम सहयोगी हैं. राम सबके हैं, राम सबमें हैं. भगवान राम सबका कल्याण चाहते हैं. इसीलिए वे मर्यादा पुरुषोत्तम हैं.' कांग्रेस महासचिव ने कहा, ‘आगामी 5 अगस्त, 2020 को रामलला के मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम रखा गया है. भगवान राम की कृपा से यह कार्यक्रम उनके संदेश को प्रसारित करने वाला राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का कार्यक्रम बने. जय सियाराम.'

बता दें कि अयोध्या में PM नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर की नींव रखी. इसके साथ ही भूमि पूजन संपन्न हो गया. 9 शिलाओं का पूजन हुआ. बीच में जो शिला है, वह कूर्म शिला है. इस शिला के ठीक ऊपर रामलला विराजमान होंगे.

बाबरी मस्जिद थी और हमेशा मस्जिद ही रहेगी, दिल तोड़ने की जरूरत नहीं: AIMPLB
वहीं, पीएम मोदी रामजन्मभूमि जाने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं. पीएम 29 सालों बाद अयोध्या गए हैं. पीएम ने अयोध्या पहुंचकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पहले प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की. जिसके बाद वो रामजन्मभूमि के लिए निकले.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज