Home /News /nation /

Ayodhya Verdict : जस्टिस बोबडे ने कहा- अयोध्या विवाद सबसे कठिन मामलों में से एक था

Ayodhya Verdict : जस्टिस बोबडे ने कहा- अयोध्या विवाद सबसे कठिन मामलों में से एक था

सीजेआई रंजन गोगोई (Ranjan gogoi) की अध्यक्षता में पांच जजों की बेंच ने अयोध्या (Ayodhya) की विवादित जमीन रामलला विराजमान (ram lalla virajman) को देने का फैसला किया है.

सीजेआई रंजन गोगोई (Ranjan gogoi) की अध्यक्षता में पांच जजों की बेंच ने अयोध्या (Ayodhya) की विवादित जमीन रामलला विराजमान (ram lalla virajman) को देने का फैसला किया है.

सीजेआई रंजन गोगोई (Ranjan gogoi) की अध्यक्षता में पांच जजों की बेंच ने अयोध्या (Ayodhya) की विवादित जमीन रामलला विराजमान (ram lalla virajman) को देने का फैसला किया है.

    नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) अयोध्या मामले (Ayodhya case) में अब तक का सबसे बड़ा फैसला सुना चुका है. सीजेआई रंजन गोगोई (Ranjan gogoi) की अध्यक्षता में पांच जजों की बेंच ने विवादित जमीन रामलला विराजमान (ram lalla virajman) को देने का फैसला किया. अयोध्या विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट की ओर से लिए गए फैसले को जस्टिस शरद अरविंद बोबडे (sharad arvind bobde) ने ऐतिहासिक बताया है.

    टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक अगले चीफ जस्टिस शरद अरविंद बोबडे ने कहा कि जब अयोध्या पर फैसला देने का समय आया तो हम सभी जजों की सहमति थी कि यह एक फैसला होना चाहिए. उन्होंने कहा कि हम सभी अयोध्या के फैसले को लेकर एकमत थे. जस्टिस बोबडे ने माना कि यह केस सबसे कठिन मामलों में से एक था.

    इसे भी पढ़ें :- अयोध्‍या आंदोलन से बना बीजेपी-शिवसेना गठबंधन, राममंदिर निर्माण की राह खुलते ही टूटा

    उन्होंने बताया कि अयोध्या पर फैसला देने से पहले हम कानून व्यवस्था को लेकर थोड़ा चिंतित थे. फैसला सुनाने से पहले मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने यूपी के मुख्य सचिव और डीजीपी से मुलाकात की. हम संतुष्ट हैं कि हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. जस्टिस बोबडे ने कहा कि इस फैसले के बाद मैं एक ही संदेश देना चाहता हूं कि कई सालों से चला आ रहा यह विवाद अब खत्म हो गया है.

    इसे भी पढ़ें :- Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने माना, मुख्य गुम्बद के नीचे का हिस्सा भगवान राम की जन्मभूमि

    गौरतलब है कि सीजेआई रंजन गोगोई ने अयोध्या मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाया जाए. इसके लिए केंद्र सरकार को तीन महीने का समय दिया गया है. वहीं सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन देने का भी फैसला किया गया है. सीजेआई ने कहा कि ये पांच एकड़ जमीन या तो अधिग्रहित जमीन से दी जाए या फिर अयोध्या में कहीं भी दी जाए. वहीं 2.77 एकड़ विवादित जमीन पर सरकार का अधिकार रहेगा.

     



    इसे भी पढ़ें :- जानिए पिछले 30 सालों से क्या है रामलला की दिनचर्या, कब होती है पूजा और कब लगता है भोग

    Tags: Ayodhya, Ayodhya Mandir, Ayodhya Verdict, CJI Ranjan Gogoi, Justice Ranjan Gogoi, Supreme Court, Supreme court of india

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर