एलोपैथी पर दिए बयान पर बोले बाबा रामदेव- इस विवाद को ईमानदारी और दिल से करना चाहता हूं समाप्त

बाबा रामदेव ने कहा हम सभी को अनावश्यक विवाद से बचते हुए देश की भलाई के काम में जुट जाना चाहिए (फाइल फोटो)

बाबा रामदेव ने कहा हम सभी को अनावश्यक विवाद से बचते हुए देश की भलाई के काम में जुट जाना चाहिए (फाइल फोटो)

Baba Ramdev Exclusive: न्यूज़18 से खास बातचीत में बाबा रामदेव ने कहा मैंने उस समय भी अपना बयान वापस लिया और खेद व्यक्त किया. मैंने कोई बयान व्हाट्सएप पर पढ़ दिया और उससे भी किसी की भावना आहत हुई तो उसके लिए खेद व्यक्त करता हूं. क्षमा मांगता हूं.

  • Share this:

नई दिल्ली. एलोपैथी पर दिए बयान के बाद चौतरफा घिरे बाबा रामदेव (Baba Ramdev) ने कहा है कि वह अब इस विवाद को ईमानदारी और दिल से समाप्त करना चाहते हैं. न्यूज 18 के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में रामदेव ने कहा कि वह इस विवाद को आगे तूल नहीं देना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि हम सभी को अनावश्यक विवाद से बचते हुए देश की भलाई के काम में जुट जाना चाहिए.

रामदेव ने कहा कि जो लोग अभी भी इस विवाद को अनावश्यक तूल देना चाहते हैं, वह आत्म मूल्यांकन करें. उन्होंने कहा, 'आओ हम सब मिलकर देश की भलाई का काम करें. जो गरीब लोग हैं उनतक अर्फोडेबल इलाज पहुंचाएं. योग, आयुर्वेद नेचरोपैथी, खान-पान, होम रेमेडी को आम लोगों तक पहुंचाएं.' बता दें कि एलोपैथी पर दिए बयान के बाद IMA ने बाबा रामदेव को 1000 करोड़ रुपये का मानहानि का नोटिस भेजा है.

ये भी पढ़ें- Ramdev Exclusive- 90% डॉक्टरों की करता हूं इज्जत, पर आयुर्वेद का हो सम्मान

Youtube Video

ईमानदारी से खत्म करना चाहता हूं विवाद

बाबा रामदेव ने कहा कि अभी वक्त अपने स्वार्थों से उठकर इस राष्ट्र और गांव के अंतिम आदमी के बारे में सोचने का है. हमें उन मिडिल क्लास के बारे में भी सोचना है जो इलाज के लिए लाखों रुपये खर्च नहीं कर सकते हैं. उन्होंने कहा, 'मैं इस विवाद को ईमानदारी और दिल से समाप्त करना चाहता हूं.'




किसी की भावना आहत हुई तो क्षमा मांगता हूं

डॉक्टरों के अपमान के सवाल पर बाबा रामदेव ने कहा, 'मैं किसी डॉक्टर का अपमान नहीं करना चाहता हूं और ऐसा सोच भी नहीं सकता हूं. किसी का अनादर करने का प्रश्न ही नहीं है. मैं अभी भी कह रहा हूं कि ये संघर्ष किसी व्यक्ति के अनादर करने का नहीं है. ये एलोपैथी के अनादर करने का संघर्ष नहीं है. हम सब मिलकर मानवता का भला करें. इसी भावना के साथ मैं संवाद कर रहा हूं. मैंने उस समय भी अपना बयान वापस लिया और खेद व्यक्त किया. मैंने कोई बयान व्हाट्सएप पर पढ़ दिया और उससे भी किसी की भावना आहत हुई तो उसके लिए खेद व्यक्त करता हूं. क्षमा मांगता हूं. मैं अपने ऊपर लगाए जा रहे आरोपों से आगे बढ़ना चाहता हूं.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज