बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: 24 जुलाई को आडवाणी, 23 जुलाई को जोशी देंगे गवाही

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: 24 जुलाई को आडवाणी, 23 जुलाई को जोशी देंगे गवाही
विध्वंस से पहले बाबरी मस्जिद के ढांचे की फाइल फोटो

अदालत (Court) ने शिवसेना (Shiv Sena) के पूर्व सांसद सतीश प्रधान को वीडियो लिंक (Video Link) के माध्यम से बयान दर्ज कराने के लिए 22 जुलाई की तारीख तय की है.

  • Share this:
नई दिल्ली. एक विशेष सीबीआई अदालत (CBI Special Court) ने सोमवार को बाबरी मस्जिद विध्वंस (Babri Mosque Demolition) मामले में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी (Former Deputy Prime Minister LK Advani) के लिए 24 जुलाई की तारीख बयान दर्ज कराने के लिए निर्धारित की है. सीआरपीसी (CrPC) की धारा 313 के तहत उनका बयान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के जरिए दर्ज किया जाएगा. विशेष न्यायाधीश (Special Judge) एसके यादव ने अपने आदेश में भाजपा नेता (BJP Leader) मुरली मनोहर जोशी (Murli Manohar Joshi) के बयान को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दर्ज करने के लिए 23 जुलाई की तारीख तय की है.

अदालत ने शिवसेना (Shiv Sena) के पूर्व सांसद सतीश प्रधान को वीडियो लिंक (Video Link) के माध्यम से बयान दर्ज कराने के लिए 22 जुलाई की तारीख तय की है. अदालत सीआरपीसी (CrPC) की धारा 313 के तहत कार्यवाही कर रही है ताकि सभी आरोपी, यदि वे ऐसा चाहते हैं तो अपनी निर्दोषता (innocence) के लिए प्रयास कर सकें.

5 अगस्त को पीएम मोदी होंगे राम मंदिर के शिलान्यास में शामिल
बता दें कि अयोध्या (Ayodhya) के पुजारियों ने रविवार को जनकारी दी थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  राम मंदिर (Ram Mandir) के निर्माण के शिलान्यास-भूमि पूजन (Foundation Stone) के दौरान 5 अगस्त को सुबह 11 से दोपहर 1:10 बजे के बीच अयोध्या में रहेंगे. अयोध्या में पुजारियों (Priests) ने राम जन्मभूमि स्थलपर 3 अगस्त से शुरू होने वाले तीन दिवसीय वैदिक अनुष्ठानों के साथ समारोह के लिए एक विस्तृत योजना तैयार की है. इसके बाद 4 अगस्त को रामचर्य 'पूजा' (Ramacharya puja) और 5 अगस्त को 'भूमि पूजन' होगा. जो दोपहर 12:15 बजे के आसपास आयोजित किया जाएगा.
यह भी पढ़ें: शिवसेना ने राम मंदिर का बनाया रास्ता, अयोध्या के न्योते की जरूरत नहीं- राउत



यह पीएम मोदी की अयोध्या और राम मंदिर क्षेत्र (Ram temple area) की पहली यात्रा होगी. राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust) के कामेश्वर चौपाल ने कहा, "हम राम मंदिर की नींव रखने के लिए 3 अगस्त या 5 अगस्त की दो तारीखें प्रधानमंत्री (prime minister) को चुनने के लिए भेज चुके हैं. जो तारीख उन्हें ठीक लगेगी उससे मंदिर निर्माण (Temple Construction) की शुरूआत होगी."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज