लाइव टीवी

बाबरी मामले में आडवाणी, उमा समेत 10 पर चलेगा क्रिमिनल केस

News18Hindi
Updated: April 19, 2017, 1:12 PM IST
बाबरी मामले में आडवाणी, उमा समेत 10 पर चलेगा क्रिमिनल केस
Image Source: PTI

1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में बुधवार को सुप्रीम कोर्ट बड़ा फैसला देते हुए कहा कि बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती पर आपराधिक साजिश का मुकदमा चलाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2017, 1:12 PM IST
  • Share this:
1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला देते हुए कहा कि बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती पर आपराधिक साजिश का मुकदमा चलाया जाएगा. इस मामले में सिर्फ कल्याण सिंह को इम्युनिटी दी गई है क्योंकि वो फिलहाल गवर्नर हैं. हालांकि कोर्ट ने ये भी कहा कि वो इस्तीफ़ा देने पर विचार कर सकते हैं.

आडवाणी, उमा पर क्रिमिनल केस: कांग्रेस ने मांगा इस्तीफा, कटियार की ना

बाबरी विध्वंस मामले में 10 आरोपियों पर धारा 120 बी के तहत आपराधिक मामला चलाया जाएगा. साथ ही इस मामले की सुनवाई कर रहे जजों का ट्रांसफर तबक नहीं होगा जबतक सुनवाई पूरी नहीं हो जाती. कोर्ट ने नाम लेकर कहा कि आडवाणी और जोशी समेत 10 लोगों के खिलाफ मुकदमा लखनउ की अदालत में चलाया जाएगा. कोर्ट ने इस मामले को जल्द से जल्द सुलझाने के लिए ये भी फैसला लिया है कि केस की रोजाना सुनवाई की जाएगी. सीबीआई को भी 4 हफ़्तों के भीतर केस रजिस्टर्ड कर कार्रवाई शुरू करनी होगी.

बाबरी केस : 1528 से लेकर आजतक, पढ़ें कब-कब क्या हुआ ?



न्यायाधीश पीसी घोष और न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन की संयुक्त पीठ ने मामले में सीबीआई की अपील पर यह फैसला सुनाया है. पीठ ने कहा कि 2 साल में मामले की सुनवाई पूरी की जाए. इसके साथ ही रायबरेली से लखनऊ केस ट्रांसफर कर दिया गया है साथ ही मामले से जुड़े जजों के तबादले पर रोक लगा दी गई है. सीबीआई को आदेश दिया है कि इस मामले में रोज उनका वकील कोर्ट में मौजूद रहेगा.

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी का बयान

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के कन्वेनर ज़फरयाब जिलानी ने कोर्ट के फैसले पर कहा कि इसका संबंध मस्जिद बनाने से नहीं है, ये उन लोगों के ऊपर आरोप से है. अगर ये लोग साजिश में शामिल थे तो सजा होगी.

बाबरी विध्वंस केस: पढ़िए सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 5 बड़ी बातें

क्या कहा था कोर्ट ने
बता दें कि न्यायमूर्ति पिनाकी चंद्र घोष और न्यायमूर्ति रोहिटन फली नरीमन की पीठ ने छह अप्रैल को इस मामले में आदेश सुरक्षित रख लिया था. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम इस मामले में इंसाफ करना चाहते हैं. एक ऐसा मामला जो 17 सालों से सिर्फ तकनीकी गड़बड़ी की वजह से रुका है.
शीर्ष अदालत ने अप्रैल के पहले हफ्ते में आदेश सुरक्षित रखने से पहले संकेत दिया था कि जहां तक साजिश के आरोपों का सवाल है तो संविधान के अनुच्छेद 142 से असाधारण शक्तियां ली जा सकती हैं.

डे-टू-डे सुनवाई क्यों
सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, 'इसके लिए हम संविधान के आर्टिकल 142 के तहत अपने अधिकार का इस्तेमाल कर आडवाणी, जोशी समेत सभी पर आपराधिक साजिश की धारा के तहत फिर ट्रायल चलाने का आदेश दे सकते हैं. साथ ही मामले को रायबरेली से लखनऊ ट्रांसफर कर सकते हैं. 25 साल से मामला लटका पड़ा है, हम डे-टू-डे सुनवाई करके दो साल में सुनवाई पूरी कर सकते हैं.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 19, 2017, 10:46 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,709

     
  • कुल केस

    6,412

     
  • ठीक हुए

    503

     
  • मृत्यु

    199

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 10 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,152,323

     
  • कुल केस

    1,604,718

    +1,066
  • ठीक हुए

    356,660

     
  • मृत्यु

    95,735

    +42
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर