बेहतर कानून-व्यवस्था देख घर लौटा फौजी परिवार, जान के भय से 2013 में किया था पलायन

बेहतर कानून-व्यवस्था देख घर लौटा फौजी परिवार, जान के भय से 2013 में किया था पलायन
फौजी प्रवेश राठी ने कहा कि उन्हें अधिकारियों ने सुरक्षा का भरोसा दिया जिसके बाद उन्होंने परिवार समेत अपने पैतृक गांव लौटने का निर्णय लिया

फौजी प्रवेश राठी ने बताया कि वो अधिकारियों के आश्वासन के बाद सात साल पर अपने गांव वापस लौटा है. रविवार को दोघट थाना पुलिस की भारी मौजूदगी में उसके अपने खेत की जुताई कराई. साथ ही पुलिस ने फौजी के मकान पर भी कब्जा दिलवाया

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 6, 2020, 6:27 PM IST
  • Share this:
बागपत. उत्तर प्रदेश सरकार (UP Government) की कानून-व्यवस्था (Law And Order) पर विश्वास करते हुए सात साल बाद एक फौजी परिवार की घर वापसी हुई है. वर्ष 2013 में परिवार के पांच लोगों की हत्या हो जाने के बाद फौजी परिवार गांव से पलायन (Migration) कर गया था. जिसके बाद अब यह फौजी परिवार दोबारा गांव लौटा है. दोघट थाना पुलिस की सुरक्षा के बीच फौजी परिवार ने गांव पहुंचकर अपने खेत-खलिहान और मकान पर कब्जा लिया.

फौजी प्रवेश राठी सेना में जवान हैं जो वर्तमान में जयपुर में तैनात हैं. उन्होंने बताया कि अब प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार (Yogi Adityanath Government) है जिसमें अपराधियों के एनकाउंटर (Encounter) किए जा रहे हैं और उनको गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है. पूर्व की तुलना में कानून-व्यवस्था अच्छी हुई है. इससे उनका हौसला बढ़ा और एसपी बागपत, आईजी मेरठ सहित तमाम अधिकारियों के आश्वासन के बाद आज वो परिवार सहित अपने घर वापस लौटे हैं.

परिवार के 5 लोगों की हत्या के बाद वर्ष 2013 में किया था पलायन
दरअसल पुरानी रंजिश के चलते इस परिवार के पांच लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. जिसमें फौजी के माता-पिता सहित तहेरे भाई भी शामिल थे. माता-पिता की हत्या हो जाने के बाद फौजी परिवार गांव से पलायन कर गया था. तब प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार थी. वर्ष 2017 में बीजेपी की सरकार आने से फौजी का मनोबल बढ़ा और उसने परिवार समेत गांव वापस लौटने का फैसला लिया. वर्ष 2013 में पैतृक गांव गंगनौली में रंजिश के चलते उनके माता-पिता, तेहेरे भाई समेत पांच लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हत्या का आरोप गांव के ही प्रमोद गंगनोली और उसके परिवारवालों पर लगा था. तत्कालीन अखिलेश यादव सरकार में पुलिस अभिरक्षा में सुरक्षा के बावजूद हत्या हो जाने से नाराज फौजी परिवार गांव से पलायन कर गया था. इस दौरान सात साल तक फौजी का घर और खेती की जमीन पूरी तरह बंजर पड़ी रही.
योगी सरकार में कानून-व्यवस्था और पुलिस पर विश्वास


योगी सरकार आने के बाद और कानून-व्यवस्था दुरुस्त होने के बाद फौजी प्रवेश राठी का मनोबल बढ़ा और अधिकारियों से वार्ता करने के बाद अब वो अपने गांव वापस लौट आए हैं. राठी ने बताया कि वो अधिकारियों के आश्वासन के बाद वापस लौटा है. रविवार को दोघट थाना पुलिस की भारी मौजूदगी में उसके अपने खेत की जुताई कराई. साथ ही पुलिस ने फौजी के मकान पर भी कब्जा दिलवाया. प्रवेश राठी का कहना है कि वो अब गांव में ही रहेगा क्योंकि प्रदेश में अब समाजवादी पार्टी की नहीं बल्कि योगी आदित्यनाथ की सरकार है, और उन्हें कानून-व्यवस्था पर पूरा विश्वास है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज