लाइव टीवी
Elec-widget

बाला साहब ठाकरे ने 2011 में जता दी थी बीजेपी-शिवसेना के रिश्‍तों में खटास आने की आशंका

News18Hindi
Updated: November 30, 2019, 5:15 AM IST
बाला साहब ठाकरे ने 2011 में जता दी थी बीजेपी-शिवसेना के रिश्‍तों में खटास आने की आशंका
दावा है कि बाल ठाकरे ने ये इंटरव्‍यू 2011 में दिया था.

महाराष्‍ट्र में बीजेपी और शिवसेना (BJP-Shiv Sena) की दोस्‍ती टूट चुकी है. शिवसेना ने कांग्रेस (Congress) के साथ मिलकर सरकार बना ली है. बालासाहब ठाकरे ने 2011 में ही इस बात की आशंका जता दी थी कि आने वाले समय में दोनों पार्टियों के रिश्‍ते शायद ही सामान्‍य रहें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2019, 5:15 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. महाराष्‍ट्र चुनाव (Maharashtra Election) के बाद राजनीति में एक नए गठबंधन का उदय हो चुका है. महाराष्‍ट्र में बीजेपी और शिवसेना (BJP-Shiv Sena) की दोस्‍ती टूट चुकी है. शिवसेना ने कांग्रेस (Congress) के साथ मिलकर सरकार बना ली है. इस दोस्‍ती पर काफी टीका टिप्‍पणी हो चुकी है. लेकिन अगर अतीत पर नजर डालें तो शिवसेना के शीर्ष पुरुष बाला साहब ठाकरे ने 2011 में ही इस बात की आशंका जता दी थी कि आने वाले समय में दोनों पार्टियों के रिश्‍ते शायद ही सामान्‍य रहें. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे 2011 का बताया जा रहा है.

इस वीडियो में बाला साहब ठाकरे एक निजी चैनल को इंटरव्‍यू देते हुए दिख रहे हैं. इसमें उन्‍होंने बीजेपी, हिंदुत्‍व, अपनी पार्टी शिवसेना और उसकी बीजेपी से दोस्‍ती पर खुलकर बात की है. ये इंटरव्‍यू मई 2011 का बताया जा रहा है. इसके अगले साल 2012 में ही बालासाहब ठाकरे की मौत हो गई थी. इस इंटरव्‍यू के दौरान जब बाला साहब ठाकरे से पूछा जाता है कि क्‍या बीजेपी के साथ भविष्‍य में दोनों पार्टियों की दोस्‍ती ऐसे ही चलती रहेगी, तो वह कहते हैं अब नई पीढ़ी का जमाना है. मैं पुराने दौर का आदमी हूं. तो आपको ये सवाल उद्धव से पूछना चाहिए. अब उद्धव और नितिन गडकरी जैसे लोगों को काम करना है. वह हाथ में हाथ मिलाकर चल सकते हैं. लेकिन मुझे उम्‍मीद ज्‍यादा नहीं है.

मेरा हिंदुत्‍व बीजेपी से बिल्‍कुल अलग
बाला साहब ठाकरे से जब हिंदुत्‍व और बीजेपी के बारे में पूछा गया तो उन्‍होंने कहा, मुझसे आप बीजेपी के बारे में सवाल नहीं पूछिए. मेरा हिंदुत्‍व उनके हिंदुत्‍व से बिल्‍कुल अलग है. मैं हिंदुत्‍व को अलग तरीके से लेता हूं. मैं इसे राजनीति के लिए इस्‍तेमाल नहीं करता. मैं इसे अपने दिल, देश और हिंदुस्‍तान के लिए करता हूं. बाला साहब ठाकरे से पूछा गया कि क्‍या आज भी लोग धर्म के नाम पर वोट करते हैं. तो उन्‍होंने कहा, ऐसा नहीं है, लोग आज खुश रहना चाहते हैं. उन्‍हें अपनी रोजी रोटी चाहिए.

ये भी पढ़ें-

भगवा मेरा पसंदीदा रंग, किसी लॉन्ड्री में धुलाई से यह नहीं जाएगा: उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र: उद्धव सरकार की 'परीक्षा' आज, विधानसभा में होगा फ्लोर टेस्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 5:04 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...