बालाकोट एयर स्ट्राइक की प्लानिंग करने वाले सामंत गोयल बने नए RAW चीफ

सामंत गोयल पंजाब कैडर के 1984 बैच के अफसर हैं. गोयल की गिनती पर्दे के पीछे रणनीति बनाने वाले अधिकारियों में की जाती है. अपनी सेवा के शुरुआती 17 साल सामंत गोयल ने पंजाब पुलिस में काम किया.

Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: June 26, 2019, 6:09 PM IST
बालाकोट एयर स्ट्राइक की प्लानिंग करने वाले सामंत गोयल बने नए RAW चीफ
सामंत गोयल, मौजूदा चीफ अनिल कुमार धस्माना की जगह लेंगे.
Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: June 26, 2019, 6:09 PM IST
मोदी सरकार ने 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी सामंत गोयल को खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) का नया चीफ अपॉइंट किया है. सामंत गोयल ने ही 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में हुए एयर स्ट्राइक की प्लानिंग की थी. गोयल पंजाब कैडर के 1984 बैच के अफसर हैं.

नए रॉ चीफ सामंत गोयल, मौजूदा चीफ अनिल कुमार धस्माना की जगह लेंगे, जो रिटायर हो रहे हैं. रॉ के चीफ के तौर पर नियुक्‍त होने से पहले सामंत गोयल दूसरे देशों से जुड़ी इंटेलीजेंस से जुड़ी एजेंसी के संचालन को संभाल रहे थे.

गोयल की गिनती पर्दे के पीछे रणनीति बनाने वाले अधिकारियों में की जाती है. अपनी सेवा के शुरुआती 17 साल सामंत गोयल ने पंजाब पुलिस में काम किया.

कौन हैं सामंत

13 जून 1960 को पैदा हुए गोयल का सेलक्शन 24 साल की उम्र में भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के लिए हो गया था. गोयल ने अपने अपने कैरियर की शुरुआत होशियारपुर जिले के गढ़शंकर में एएसपी के रुप में की. उसके बाद वह बाटला फिरोजपुर, गुरूदासपुर और अमृतसर जिलों के एसएसपी रहे.

यह भी पढ़ें:  EXCLUSIVE: बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पायलट कर रहे थे यह काम

भारत सरकार में गोयल की पहली तैनाती साल 2001 में कैबिनेट सचिवालय में हुई उसके बाद जहां वो इंटेलिजेंस की मनिटरिंग करते थे. पंजाब पुलिस में डीआईजी रूप में भी सामंत गोयल ने बार्डर मैनजमेंट और खुफिया यूनिट मे डीआईजी के तौर पर काम किया है. साल 2001 में केंद्र सरकार में आने के बाद लगातार आईबी और रॉ से जुड़े काम देख रहे हैं.
मिल चुका है पुलिस मेडल

गोयल को 1995 और 2000 में सराहनीय कार्यों के लिए पुलिस मेडल भी मिल चुका है. उन्होंने कॉमर्स और कानून में पंजाब विश्वविद्यालय से स्नातक किया है. गोयल के रिकार्ड में सबसे बड़ी सफलता बालाकोट एयर स्ट्राईक के रुप में जुड़ी है , गोयल उस टीम का हिस्सा थे जिसने इस पूरी योजना को तैयार किया था.

यह भी पढ़ें: 19 साल से आतंकियों का गढ़ क्यों बना हुआ है पुलवामा?
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...