बसपा को 'समर्थन' पर क्या बोले बामसेफ चीफ वामन मेश्राम?

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: April 15, 2019, 11:49 AM IST
बसपा को 'समर्थन' पर क्या बोले बामसेफ चीफ वामन मेश्राम?
मायावती की फाइल फोटो

बामसेफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष वामन मेश्राम ने कहा कि कांशीराम तक बसपा बहुजनों के लिए काम कर रही थी, लेकिन जब से इसे मायावती ने टेकओवर किया है तब से वो सर्वजन खासतौर पर ब्राह्मणजनों के लिए काम कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2019, 11:49 AM IST
  • Share this:
कभी बसपा (BSP) को जिताने के लिए जमीनी तौर पर काम करने वाले बामसेफ BAMCEF (बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एंप्लाई फेडरेशन) के राष्ट्रीय अध्यक्ष वामन मेश्राम ने कहा है कि उनके संगठन का मायावती और बसपा  से कोई संबंध नहीं है. न ही लोकसभा चुनाव में कोई समर्थन. कांशीराम तक बसपा दलितों, बहुजनों के लिए काम कर रही थी, लेकिन जब से इसे मायावती ने टेकओवर किया है तब से वो सर्वजन खासतौर पर ब्राह्मणों के लिए काम करने लगी है. उन्हीं पर मेहरबान है. वो मिशन से भटक गई है. इसलिए हमारा उसे कोई समर्थन नहीं है.  मेश्राम ने न्यूज18हिंदी से विशेष बातचीत में यह बात कही.

मेश्राम ने कहा, 'हाथी के पागल होने की संभावना होती है. इससे पहले कि हाथी पागल हो जाए, उस पर अंकुश लगाने के लिए महावत बैठा देना चाहिए. वरना हाथी हमारे ऊपर ही चढ़ जाएगा. कांशीराम जी ने जो हाथी (बसपा) पैदा किया था वो अब पागल हो गया है. बसपा अब लक्ष्य से भटक चुकी है. कांशीराम जी के समय वाली बसपा और अब वाली बसपा में काफी अंतर है. इसलिए हम उसके साथ नहीं हैं.'

BAMCEF, बामसेफ, Waman Meshram, वामन मेश्राम, BSP, बसपा, बीएसपी, Mayawati, मायावती, Prakash Ambedkar, प्रकाश आंबेडकर, lok sabha election 2019, 2019 लोकसभा चुनाव, Vanchit Bahujan Aghadi, वंचित बहुजन आघाडी, up politics, dalit politics, dalit vote bank, Backward And Minority Communities Employees Federation, बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एंप्लाई फेडरेशन, मुस्लिम, muslim, Mulniwasi, मूल निवासी, brahmin politics, ब्राह्मण, Interview of BAMCEF chief waman meshram, बामसेफ प्रमुख वामन मेश्राम का इंटरव्यू, Deenabhana, DK Khaparde, Kanshi Ram, Defence company Pune, दीनाभाना, पुणे की गोला बारूद फैक्टरी, एससी एसटी वेलफेयर एसोसिएशन, आंबेडकर जयंती, डीके खापर्डे, कांशीराम           कांशीराम और मायावती (File Photo)

मेश्राम ने कहा, 'हम लोग मूलनिवासी समाज को न्याय दिलाने के लिए काम कर रहे हैं. ब्राह्मणवाद को अपना सबसे बड़ा शत्रु मानते हैं, लेकिन बसपा इससे भटक गई. वो अब ब्राह्मणों को साथ लेकर काम कर रही है. 2007 में जब यूपी में बसपा की पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनी थी तो एससी/एसटी एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में ऑर्डर निकाला गया था. फिर हम मायावती का साथ कैसे दे सकते हैं. गौर करने वाली बात ये है कि सुप्रीम कोर्ट वाले ऑर्डर से पहले ही मायावती ने ये काम किया था.'

BAMCEF, बामसेफ, Waman Meshram, वामन मेश्राम, BSP, बसपा, बीएसपी, Mayawati, मायावती, Prakash Ambedkar, प्रकाश आंबेडकर, lok sabha election 2019, 2019 लोकसभा चुनाव, Vanchit Bahujan Aghadi, वंचित बहुजन आघाडी, up politics, dalit politics, dalit vote bank, Backward And Minority Communities Employees Federation, बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एंप्लाई फेडरेशन, मुस्लिम, muslim, Mulniwasi, मूल निवासी, brahmin politics, ब्राह्मण, Interview of BAMCEF chief waman meshram, बामसेफ प्रमुख वामन मेश्राम का इंटरव्यू, Deenabhana, DK Khaparde, Kanshi Ram, Defence company Pune, दीनाभाना, पुणे की गोला बारूद फैक्टरी, एससी एसटी वेलफेयर एसोसिएशन, आंबेडकर जयंती, डीके खापर्डे, कांशीराम
बामसेफ चीफ वामन मेश्राम (Photo-BAMCEF)


तो क्या महाराष्ट्र में प्रकाश आंबेडकर को भी आपका समर्थन नहीं है? इस सवाल के जवाब में मेश्राम ने कहा- 'बिल्कुल, उन्हें भी समर्थन नहीं होगा, क्योंकि वो आरएसएस के ईशारे पर काम कर रहे हैं. इसका मेरे पास सबूत है.'

मेश्राम ने कहा, बामसेफ की प्रेरणा और उसके मिशन को आगे बढ़ाने के लिए हमारे समर्थकों ने 2012 'बहुजन मुक्ति पार्टी' बनाई. ये लोग 2014 के लोकसभा चुनाव में भी मैदान में थे. 2019 में इस पार्टी के लोग जहां-जहां खड़े हो रहे हैं वहां-वहां हमारा उन्हें समर्थन है. अन्य किसी पार्टी या निर्दलीय को भी बामसेफ समर्थन नहीं दे रहा है.
Loading...

 BAMCEF, बामसेफ, Waman Meshram, वामन मेश्राम, BSP, बसपा, बीएसपी, Mayawati, मायावती, Prakash Ambedkar, प्रकाश आंबेडकर, lok sabha election 2019, 2019 लोकसभा चुनाव, Vanchit Bahujan Aghadi, वंचित बहुजन आघाडी, up politics, dalit politics, dalit vote bank, Backward And Minority Communities Employees Federation, बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एंप्लाई फेडरेशन, मुस्लिम, muslim, Mulniwasi, मूल निवासी, brahmin politics, ब्राह्मण, Interview of BAMCEF chief waman meshram, बामसेफ प्रमुख वामन मेश्राम का इंटरव्यू, Deenabhana, DK Khaparde, Kanshi Ram, Defence company Pune, दीनाभाना, पुणे की गोला बारूद फैक्टरी, एससी एसटी वेलफेयर एसोसिएशन, आंबेडकर जयंती, डीके खापर्डे, कांशीराम           मायावती से नाराज हैं बामसेफ चीफ मेश्राम!

बामसेफ के अध्यक्ष ने बताया, 'देश में इस वक्त 31 राज्यों के 542 जिलों में करीब 25 लाख लोग संगठन से जुड़े हए हैं. इसके 57 अनुशांगिक संगठन हैं, जिसमें कई प्रोफेशन के लोग हैं. राष्ट्रीय मूल निवासी बहुजन कर्मचारी संघ नाम से हमारा ट्रेड यूनियन संगठन भी है, जो एससी-एसटी, ओबीसी एवं माइनॉरिटी कर्मचारियों के हितों को सुरक्षित रखने का काम करता है.'

मालूम हो कि बामसेफ की स्थापना कांशीराम ने की थी. बसपा की स्थापना के बाद कुछ चुनावों तक यह संगठन उसके लिए उसी तरह काम करता था जैसे आरएसएस बीजेपी के लिए करता है. कांशीराम ने अगड़ी जाति के खिलाफ नारों के जरिए  दलितों, पिछड़ों को एकजुट किया. बामसेफ ऐसा ही काम करता है. वो ब्राह्मणों को अपने निशाने पर लेता रहता है.

कांशीराम के बनाए गए बामसेफ की ओर से मायावती को समर्थन न देने के बारे में हमने बसपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधींद्र भदौरिया से बातचीत की, लेकिन उन्होंने बाद में कोई टिप्पणी करने की बात कही.

ये भी पढ़ें:

क्या कांशीराम और मायावती की दलित राजनीति में अंतर है?

क्या थी चमार रेजीमेंट, जिसकी बहाली की मांग कर रहे हैं भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर

2019 के लिए दलित राजनीति के क्या हैं मायने?

1 जनवरी 1818 को भीमा-कोरेगांव में ऐसा क्या हुआ? दलित वहां हर साल क्यों जाना चाहते हैं?

'हनुमान' विवाद- ये है योगी आदित्यनाथ और गोरखनाथ मठ के दलित प्रेम की पूरी कहानी!

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 15, 2019, 9:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...