इंटरनेशनल कमर्शियल उड़ानों पर लगी रोक बढ़ी, 31 जुलाई तक सभी फ्लाइट्स रद्द

File

International commercial passenger flights Ban: DGCA ने भारत में आने वाली और भारत से जाने वाली शेड्यूल्ड इंटरनेशनल कमर्शियल फ्लाइट्स (International commercial passenger flights) को 31 जुलाई तक के लिए रद्द कर दिया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते खतरे को देखते हुए नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) ने भारत में आने वाली और भारत से जाने वाली शेड्यूल्ड इंटरनेशनल कमर्शियल फ्लाइट्स (International commercial passenger flights) को 31 जुलाई तक के लिए रद्द कर दिया है. शुक्रवार को डीजीसीए की ओर से जारी की गई जानकारी के मुताबिक, भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है.

    हालांकि डीजीसीए की ओर से यह स्पष्ट किया गया है कि इंटरनेशनल कार्गो और DGCA की तरफ से छूट दी गई उड़ानों पर यह नियम लागू नहीं होगा. जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले  इंटरनेशनल कमर्शियल फ्लाइट्स पर 15 जुलाई तक के लिए रोक लगाई गई थी.

    15 देशों के लिए दोबारा फ्लाइट्स शुरू
    यूरोपियन यूनियन ने 15 देशों के लिए दोबारा इंटरनेशनल फ्लाइट्स की शुरुआत कर दी है. लेकिन इस लिस्ट में भारत का नाम नहीं है. हर दो हफ्ते बाद इस लिस्ट को अपटेड किया जाएगा.यानी की दो सप्ताह बाद इस लिस्ट में से कुछ देशों के नाम हटाए भी जा सकते हैं और कुछ नामों को जोड़ा भी जा सकता है.

    ये भी पढ़ें:- लद्दाख पहुंचते ही PM ने सबसे पहले नक्शे पर LAC के इलाके को समझा, देखें Video



    दूसरे देशों पर निर्भर है भारत
    इससे पहले केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने कहा था कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों (International Flights) को फिर से शुरू करने के लिए भारत दूसरे देशों पर निर्भर है. हरदीप सिंह पुरी ने कहा था कि नियमित रूप से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का परिचालन फिर से शुरू करने का निर्णय तब लिया जाएगा जब विभिन्न देश विदेशी यात्रियों को अपने यहां प्रवेश पर लगे प्रतिबंधों को हटा लेंगे. गंतव्य देशों को आने वाली उड़ानों को अनुमति देने के लिए तैयार रहना होगा. भारत ने कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन के दो महीने के बाद 25 मई को अपनी घरेलू यात्री उड़ानों को फिर से शुरू किया है.

    कुछ देश में शुरू हुआ है परिचालन
    हरदीप सिंह पुरी के अनुसार अधिकतर देशों में 10 प्रतिशत से कम अंतरराष्ट्रीय उड़ान संचालन हो रही हैं क्योंकि उन्होंने सिर्फ अपने ही नागरिकों को आने की अनुमति दी है. विदेशी नागरिकों के आने पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा हुआ है. कई देश ऐसे भी हैं जिन्होंने कुछ अन्य देशों से आने की अनुमति तो दे रहे हैं, लेकिन वहां क्वारंटाइन जैसी शर्तें हैं. भारत में अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें निलंबित हैं लेकिन वंदे भारत मिशन के तहत दुनिया भर के देशों में एअर इंडिया और अन्य एयरलाइंस द्वारा 6 मई 2020 से अब तक उड़ानों में 66500 से अधिक लोग लौटे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.