लाइव टीवी
Elec-widget

NRC पर बांग्‍लादेश का बड़ा बयान, ये भारत का आंतरिक मामला, इसे वह खुद ही सुलझाएगा

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 9:34 PM IST
NRC पर बांग्‍लादेश का बड़ा बयान, ये भारत का आंतरिक मामला, इसे वह खुद ही सुलझाएगा
अली ने कहा कि बांग्लादेश भारत के किसी आंतरिक मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगा.

बांग्लादेश के दूत सैयद मुअज्जम अली ने यहां भारतीय महिला प्रेस कोर (आईडब्ल्यूपीसी) में बताया कि एनआरसी के बाद अभी तक किसी को बांग्लादेश वापस नहीं भेजा गया है और किसी को वापस नहीं भेजा जाएगा क्योंकि यह भारत का आंतरिक मामला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 9:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बांग्लादेश के दूत सैयद मुअज्जम अली (Bangladesh high commissioner Syed Moazzam Ali) ने शुक्रवार को बताया कि भारत ने बांग्लादेश (Bangladesh) से कहा है कि असम में राष्ट्रीय नागरिक पंजी/एनआरसी (NRC) का क्रियान्वयन एक आंतरिक मामला है, जिसे आंतरिक रूप से ही सुलझाया जाएगा. अली ने यहां भारतीय महिला प्रेस कोर (आईडब्ल्यूपीसी) में बताया कि एनआरसी के बाद अभी तक किसी को बांग्लादेश वापस नहीं भेजा गया है और किसी को वापस नहीं भेजा जाएगा क्योंकि यह भारत का आंतरिक मामला है.

उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ‘हमें बताया गया है कि यह उनका आंतरिक मामला है और यह आंतरिक रूप से ही सुलझाया जाएगा, इसलिए बांग्लादेश को चिंता करने की आवश्यकता नहीं है.’अली ने कहा कि बांग्लादेश भारत के किसी आंतरिक मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगा.

पिछले दिनों भी उठा था मुद्दा
बता दें कि पिछले दिनों बांग्लादेश (Bangladesh) की ओर से कहा गया था कि वैसे तो भारत का कहना है कि राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) देश का आंतरिक मामला है, लेकिन असम में उससे जुड़े घटनाक्रम पर नजर रखे हुए हैं. बांग्लादेश के विदेश सचिव शहिदुल हक ने बताया कि प्रधानमंत्री शेख हसीना (Sheikh Hasina) ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ द्विपक्षीय वार्ता के दौरान यह मुद्दा उठाया था. उन्होंने एनआरसी की पूरी प्रक्रिया समझाई. संवाददाता सम्मेलन में हक ने कहा, ‘हमें बताया गया है कि यह भारत का आंतरिक मुद्दा है. हमारा संबंध अभी अपनी सर्वोच्च ऊंचाई पर है. लेकिन साथ ही हम अपने आंखें खुली रखे हुए हैं.’

काफी समय से लंबित बीबीआईएन मोटर वाहन समझौते के बारे में हक ने संकेत दिया कि अगर भूटान इसका हिस्सा नहीं बनता तो भारत, नेपाल और बांग्लादेश इस पर हस्ताक्षर करेंगे. बांग्लादेश-भूटान-भारत-नेपाल (बीबीआईएन) मोटर वाहन समझौते का लक्ष्य चारों देशों के बीच परिवहन को बेहतर बनाना है.

ये भी पढ़ें.... पश्चिम बंगाल: उपचुनावों के नतीजे के बाद BJP नेता ने उठाए EVM पर सवाल, फिर पलटे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 9:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...