Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    राहुल गांधी को नर्वस छात्र बताने वाले ओबामा ने अपनी किताब में की मनमोहन सिंह की जमकर तारीफ

    ओबामा ने की मनमोहन सिंह की तारीफ. (फाइल फोटो- AP)
    ओबामा ने की मनमोहन सिंह की तारीफ. (फाइल फोटो- AP)

    अमेरिका (United States) के पूर्व राष्‍ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) ने अपनी किताब 'ए प्रॉमिस्‍ड लैंड' में लिखा है कि डॉ. मनमोहन सिंह ने पाकिस्तान के खिलाफ जवाबी कार्रवाई में संयम बरती, जिसकी कीमत उन्‍हें राजनीतिक रूप से चुकानी पड़ी. उन्हें डर था कि बढ़ती मुस्लिम विरोधी भावना ने भारत की मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी के प्रभाव को मजबूत किया है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 17, 2020, 8:13 AM IST
    • Share this:
    नई दिल्‍ली. अमेरिका (United States) के पूर्व राष्‍ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) इन दिनों अपनी किताब को लेकर चर्चा में हैं. ओबामा के संस्मरण ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ में उन्‍होंने कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के बारे में लिखा है कि उनमें एक ऐसे घबराए हुए छात्र के गुण हैं जो अपने शिक्षक को प्रभावित करने की चाहत रखता है लेकिन उसमें विषय में महारत हासिल करने की योग्यता और जूनून की कमी है. अब ओबामा की इसी किताब का वो हिस्‍सा भी सामने आया है, जिसमें उन्‍होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) की जमकर तारीफ की है. वहीं कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी किताब को लेकर कई ट्वीट किए हैं.

    बराक ओबामा ने अपनी किताब में 1990 के बाद के शुरुआती वर्षों में भारत के अधिक बाजार आधारित अर्थव्‍यवस्‍था बनने का जिक्र किया है. उन्‍होंने इसमें लिखा, 'भारत के आर्थिक परिवर्तन के मुख्य वास्तुकार के रूप में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह इस प्रगति के एक उपयुक्त प्रतीक की तरह लग रहे थे. सिख धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्‍य, जो सर्वोच्च पद पर आसीन हुए थे, एक आत्मनिर्भर टेक्नोक्रेट, जिन्होंने उच्च जीवन स्तर और भ्रष्ट नहीं होने के कारण अर्जित प्रतिष्ठा को बनाए रखने के लिए लोगों का भरोसा जीता था.'

    किताब में ओबामा ने लिखा है कि मनमोहन सिंह के साथ बिताया गया समय उनके लिए 'असामान्य ज्ञान और शालीनता' के रूप में उनकी प्रारंभिक छाप की पुष्टि करता है. डॉ. मनमोहन सिंह ने हमलों के बाद पाकिस्तान के खिलाफ जवाबी कार्रवाई करने के लिए उठी मांग का विरोध किया था, लेकिन उनके संयम की कीमत उन्‍हें राजनीतिक रूप से चुकानी पड़ी. उन्हें डर था कि बढ़ती मुस्लिम विरोधी भावना ने भारत की मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी के प्रभाव को मजबूत किया है.'



    ओबामा आगे लिखते हैं, 'एक से अधिक राजनीतिक पर्यवेक्षकों का मानना था कि सोनिया गांधी ने मनमोहन सिंह को ठीक चुना था क्योंकि एक बुजुर्ग सिख के रूप में जिनके पास कोई राष्ट्रीय राजनीतिक आधार नहीं था, उनसे उनके 40 वर्षीय बेटे राहुल को कोई खतरा नहीं था, जिसे वह कांग्रेस पार्टी को संभालने के लिए तैयार कर रही थीं.'



    वहीं कांग्रेस नेता शशि थरूर ने एक ट्वीट में बीजेपी पर तंज कसते हुए लिखा है, 'मुझे बराक ओबामा की किताब ए प्रॉमिस्‍ड लैंड की अडवांस कॉपी मिल गई है. अभी मैंने पूरी किताब नहीं पढ़ी है, लेकिन इंडेक्स में भारत के लिखी हर बात पढ़ ली है. बड़ी खबर, इसमें कुछ खास नहीं है. 902 पेजों में एक बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम जिक्र तक नहीं किया गया है.



    कांग्रेस ने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की पुस्तक में राहुल गांधी के संदर्भ में की गई टिप्पणियों को लेकर मीडिया में चल रही बहस के बीच शुक्रवार को दावा किया कि इस मामले पर प्रायोजित एजेंडा चलाया जा रहा है. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी कहा कि कांग्रेस किसी एक व्यक्ति की पुस्तक में प्रकट की गई राय पर टिप्पणी नहीं करती.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज