Assembly Banner 2021

बाटला हाउस एनकाउंटर: दोषी की फांसी पर जावड़ेकर बोले- आतंकियों के समर्थकों का हुआ पर्दाफाश

बाटला हाउस एनकाउंटर को लेकर प्रकाश जावड़ेकर ने विपक्ष पर निशाना साधा है. (फ़ाइल फोटो)

बाटला हाउस एनकाउंटर को लेकर प्रकाश जावड़ेकर ने विपक्ष पर निशाना साधा है. (फ़ाइल फोटो)

Batla House Encounter Case: दिल्ली की अदालत ने 2008 बाटला हाउस मुठभेड़ के सिलसिले में आरिज खान को पुलिस निरीक्षक मोहन चंद शर्मा की हत्या का दोषी करार दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 15, 2021, 7:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. बाटला हाउस मुठभेड़ मामले में दिल्‍ली की एक कोर्ट ने दोषी आतंकी आरिफ खान को फांसी की सजा सुनाई है. कोर्ट के इस फैसले पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी आने लगी हैं. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसको लेकर विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि बाटला हाउस केस में आतंकियों के समर्थकों का पर्दाफाश हो गया है.

प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट किया, 'बाटला हाउस केस में न्यायालय के निर्णय ने आज आतंकवादियों के समर्थकों का पर्दाफाश कर दिया है. सोनिया गांधी, अरविंद केजरीवाल, ममता बनर्जी एवं अन्य सभी जिन्होंने हमारे बहादुर पुलिस कर्मियों की सत्यनिष्ठा पर सवाल उठाया था, आतंकियों का साथ दिया था, आज उन्हें देश से माफी मांगनी होगी.'

जानकारी के मुताबिक, सरकारी वकील ने कोर्ट को बताया कि दोषी खतरनाक हथियार रखे हुए था. उसने उसी से ड्यूटी निभाते हुए पुलिस वालों पर गोली चलाई थी, जिसकी वजह से इंस्पेक्टर मोहनचंद शर्मा की मौत हो गई थी. जिसके बाद दिल्‍ली की साकेत कोर्ट ने 2008 बाटला हाउस मुठभेड़ के सिलसिले में आरिज खान को पुलिस निरीक्षक मोहन चंद शर्मा की हत्या का दोषी करार दिया.



ये भी पढ़ें: बाटला हाउस एनकाउंटर केस: दिल्ली की एक अदालत ने दोषी आरिज खान को फांसी की सजा सुनाई
ये भी पढ़ें: SC ने पूछा- ज्यादा तादाद में हो NOTA तो क्या कैंसिल कर देना चाहिए चुनाव?

सरकारी वकील के मुताबिक, मर्डर और पुलिस वाले का मर्डर में फर्क होता है. ये बात सुप्रीम कोर्ट ने भी अपने एक फैसले में मानी है. दोषी सिर्फ दिल्ली में ही नहीं बल्कि जयपुर, अहमदाबाद और यूपी में धमाके करने में शामिल रहा है जिसमें काफी बेगुनाहों की जान गई थी. वहीं, बचाव पक्ष के वकील ने फांसी की सजा न दी जाने की मांग की. उसका कहना था कि उस वक्त आरिज की उम्र 24 साल थी. ऐसे में उसकी उम्र को देखते हुए नरमी बरती जाए.

कई बम धमाकों का आरोपी है आरिज
बता दें कि 9 मार्च को कोर्ट ने आरोपी आरिज खान को आईपीसी 186, 333, 353, 302, 307, 174a के तहत दोषी करार देते हुए कहा था कि इसकी सजा पर 15 मार्च को बहस होगी. आरिज को फरवरी 2018 में स्पेशल सेल ने नेपाल से गिरफ्तार किया था. आरिज पर भारत में कई जगहों पर बम धमाके के आरोप हैं, जिनमें 165 लोग मारे गए हैं. हालांकि आरोप है कि धमाकों के बाद आरिज नेपाल भाग गया था और फर्जी पासपोर्ट पर सलीम के नाम से छुपा हुआ था. दरअसल इस एनकाउंटर की कहानी 13 सितंबर 2008 को दिल्ली के करोल बाग, कनॉट प्लेस, इंडिया गेट और ग्रेटर कैलाश में हुए सीरियल बम ब्लास्ट से शुरू होती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज