जस्टिस अरुण मिश्रा हुए रिटायर, CJI बोले- आपके साथ पहली और आखिरी बार बैठ रहा हूं

जस्टिस अरुण मिश्रा हुए रिटायर, CJI बोले- आपके साथ पहली और आखिरी बार बैठ रहा हूं
जस्टिस अरुण कुमार मिश्रा 2014 में सुप्रीम कोर्ट के जज बने थे.

जस्टिस अरुण मिश्रा (Justice Arun Mishra) की तारीफ करते हुए प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे (SA Bobde) ने कहा, ' मैं बहुत लोगों को नहीं जानता, जिन्होंने इतनी कठिनाइयों के बावजूद बहादुरी से काम किया है. जस्टिस मिश्रा साहस और मेहतन की विरासत को पीछे छोड़ रहे हैं. मुझे उम्मीद है कि आप हमारे साथ संपर्क में रहेंगे. हम निश्चित रूप से ऐसा करने की कोशिश करेंगे.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2020, 3:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के जस्टिस अरुण मिश्रा (Justice Arun Mishra) आज रिटायर हो रहे हैं. कोर्ट की पंरपरा के मुताबिक, अपने कार्यकाल के आखिरी दिन जस्टिस मिश्रा चीफ जस्टिस (CJI) एस ए बोबडे (SA Bobde) के साथ बेंच में शामिल हुए. इस दौरान सीजेआई बोबडे ने जस्टिस अरुण मिश्रा की तारीफ की. सीजेआई ने कहा-'अजीब बात है कि यह पहली बार है जब मैं आपके साथ पहली बार कोर्ट में बैठा हूं और यह आखिरी बार भी हो रहा है.' सीजेआई ने जस्टिस अरुण मिश्रा की तारीफ करते हुए कहा कि वो अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने में साहस और धैर्य के प्रतीक रहे हैं. सहकर्मी के रूप में जस्टिस अरुण मिश्रा के साथ काम करना सौभाग्य की बात है.

जस्टिस अरुण मिश्रा की तारीफ करते हुए प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे ने कहा, 'यहां तक कि व्यक्तिगत मोर्चे पर भी मुझे उन बड़ी मुश्किलों की जानकारी है, जिनका उन्होंने सामना किया है. इसके बावजूद वह अपने कर्तव्यों का पालन करते रहे. मैं बहुत लोगों को नहीं जानता, जिन्होंने इतनी कठिनाइयों के बावजूद बहादुरी से काम किया है. जस्टिस मिश्रा साहस और मेहतन की विरासत को पीछे छोड़ रहे हैं.'

लोन मोरेटोरियम पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ब्याज पर ब्याज लेकर ईमानदार कर्जदारों को दंडित नहीं कर सकते



सीजेआई ने आगे कहा, 'जस्टिस मिश्रा प्रकाश के पुंज, साहस के पुंज, सभी प्रतिकूलताओं का सामना करने के लिए धैर्य के पुंज हैं. उन्होंने कर्तव्य निर्वहन में बहादुरी से सामना किया. मैं चाहता हूं कि जस्टिस मिश्रा आगे बहुत खुशहाल और समृद्ध जीवन बिताएं. मुझे उम्मीद है कि आप हमारे साथ संपर्क में रहेंगे. हम निश्चित रूप से ऐसा करने की कोशिश करेंगे.'
अटॉर्नी जनरल ने बताया आयरन जज
वहीं, अटॉर्नी जनरल (AG) केके वेणुगोपाल ने भी जस्टिस अरुण मिश्रा के लिए एक छोटा फेयरवेल मैसेज दिया. इस दौरान रिटायरमेंट से पहले अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने उन्हें सुप्रीम कोर्ट का "आयरन जज" बताया. उन्होंने कहा कि जस्टिस अरुण मिश्रा "दृढ़ और अटल रहे."

जस्टिस अरुण मिश्रा बोले- किसी को चोट पहुंची तो माफी
अपने फेयरवेल पर जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा, 'मैं जो कुछ भी कर सका वह इस अदालत की सर्वोच्च शक्तियों से हो पाया, मैंने जो कुछ भी किया उसके पीछे आप सभी की शक्ति थी. मैंने अपने विवेक के साथ हर मामले को निपटाया. यहां के सदस्यों से मैंने बहुत कुछ सीखा है.'

जस्टिस अरुण मिश्रा ने आगे कहा, 'कभी-कभी मैं अपने आचरण में प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से बहुत कठोर रहा हूं. इससे किसी को चोट नहीं लगनी चाहिए. हर फैसले का विश्लेषण करें और उसे किसी तरह का रंग न दें. अगर मुझसे किसी को चोट पहुंची है तो कृपया मुझे क्षमा करें, मुझे क्षमा करें, मुझे क्षमा करें.'

जस्टिस मिश्रा के बारे में खास बातें
मध्य प्रदेश के जबलपुर के रहने वाले जस्टिस अरुण कुमार मिश्रा ने विज्ञान में एमए की डिग्री लेने के बाद क़ानून की पढ़ाई इसलिए की, क्योंकि उनकी स्वाभाविक रुचि इसमें थी. सबसे पहले वर्ष 1999 में उन्हें मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के अतिरिक्त जज के रूप में नियुक्त किया गया. फिर जब उनकी नियुक्ति परमानेंट हुई, तो वर्ष 2010 में उनका तबादला राजस्थान हाई कोर्ट में कर दिया गया.

उसी साल वो राजस्थान हाई कोर्ट के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश भी बने और उसी वर्ष उन्हें पूर्णकालिक मुख्य न्यायाधीश भी नियुक्त कर दिया गया. वर्ष 2012 में वो कोलकाता हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बन गए थे. लेकिन सुप्रीम कोर्ट में उनकी नियुक्ति लंबित रही, क्योंकि तीन बार ऐसे मौक़े आए, जब उन्हें नियुक्त किया जाना था. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया और आख़िरकार वर्ष 2014 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट का जज बनाया गया.



ये भी पढ़ें : जुलाई के मुकाबले अगस्त में फिर से बढ़ी बेरोज़गारी, भारत का Unemployment Rate 8.35% हुआ-रिपोर्ट

उन्होंने आखिरी दिन भी दो अहम फैसले दिए जिनमें एक उज्जैन महाकाल मंदिर में शिवलिंग के संरक्षण और दूसरा टेलिकॉम कंपनियों को अजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) की बकाया रकम के भुगतान की मियाद को लेकर है. (PTI इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज