• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • मिस्टर मोदी, आइए हमारी बात सुनिए... मानसून सत्र के आखिरी हफ्ते से पहले TMC सांसद ने की प्रधानमंत्री से अपील

मिस्टर मोदी, आइए हमारी बात सुनिए... मानसून सत्र के आखिरी हफ्ते से पहले TMC सांसद ने की प्रधानमंत्री से अपील

पेगासस स्‍पाईवेयर केस, महंगाई और किसान बिल को लेकर विपक्ष के हंगामे के चलते संसद नहीं चल पा रही है.

पेगासस स्‍पाईवेयर केस, महंगाई और किसान बिल को लेकर विपक्ष के हंगामे के चलते संसद नहीं चल पा रही है.

संसद सत्र के आखिरी हफ्ते को देखते हुए तृणमूल कांगेस (Trinamool Congress) के नेता डेरेक ओ ब्रायन (Derek O'Brien) ने मांग की है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi) संसद की कार्यवाही में भाग ले और विपक्ष की मांगों को सुनें.

  • Share this:

    नई दिल्ली. संसद (Parliament) का मानसून सत्र (Monsoon Session) खत्‍म होने में अब महज एक सप्ताह का समय बचा है. अभी तक किसी भी दिन संसद की कार्यवाही पूरी नहीं हो सकी है. पेगासस स्‍पाईवेयर केस (Pegasus Spyware Case), महंगाई और किसान बिल (Farmer Bill) को लेकर विपक्ष के हंगामे के चलते संसद नहीं चल पा रही है. संसद सत्र के आखिरी हफ्ते को देखते हुए तृणमूल कांगेस (Trinamool Congress) के नेता डेरेक ओ ब्रायन (Derek O’Brien) ने मांग की है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) संसद की कार्यवाही में भाग ले और विपक्ष की मांगों को सुनें. ओ’ब्रायन ने संसद में विभिन्न विपक्षी दलों की ओर से संसद में रखी गई अपनी मांग से जुड़ा एक वीडियो भी ट्वीट किया, जिसका शीर्षक है ‘मिस्टर मोदी आइए हमारी बात सुनिए’.

    बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब तक केवल एक बार ही संसद की कार्यवाही में हिस्‍सा लेने के लिए पहुंचे थे जब वह उद्घाटन भाषण के दौरान कैबिनेट में शामिल हुए नए मंत्रियों का परिचय संसद में करना चाहते थे. हालांकि इस दौरान विपा के हंगामे के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने नाराज होकर कहा कि उन्‍होंने एक मंत्रियों का परिचय जिस तरह से दिया है उनका सम्‍मान भी उसी तरह से किया जाना चाहिए.

    इसे भी पढ़ें :- मानसून सत्र में अब तक सिर्फ 18 घंटे चली संसद, मुख्तार अब्बास नकवी बोले- खर्चा रुपैया चर्चा चवन्नी की भी नहीं

    बता दें कि एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया संघ की ओर से दावा किया गया है क‍ि 300 सत्यापित भारतीय मोबाइल फोन नंबर पेगासस स्पाईवेयर के जरिये जासूसी के संभावित निशाने वाली सूची में शामिल थे. इस रिपोर्ट के बाहर आने के बाद 19 जुलाई को शुरू हुआ मानसून सत्र विपक्ष के हंगामे के चलते नहीं चल पा रहा है.

    इसे भी पढ़ें :- विपक्ष के हंगामे से टैक्सपेयर्स के 133 करोड़ रुपए स्वाहा, राज्यसभा में 8 बिल पारित होने से बढ़ा कामकाज

    रिपोर्ट में दावा किया गया था कि इजरायली स्‍पाईवेयर पेगासस के जरिए भारत के विपक्षी नेताओं, केंद्रीय मंत्रियों और पत्रकारों की जासूसी की गई है. दुनिया भर के कई प्रमुख प्रकाशनों से जुड़ी जांच से पता चला है कि भारत में 142 से अधिक व्यक्तियों को इजरायली फर्म एनएसओ के पेगासस स्पाइवेयर का उपयोग करके सर्विलांस के संभावित लक्ष्य के रूप में पहचाना गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज