फ्लाइट से बेंगलुरु पहुंचे सदानंद गौड़ा ने नहीं किया क्वारंटाइन नियमों का पालन, कहा- 'मैं मंत्री, मुझे छूट'

फ्लाइट से बेंगलुरु पहुंचे सदानंद गौड़ा ने नहीं किया क्वारंटाइन नियमों का पालन, कहा- 'मैं मंत्री, मुझे छूट'
बेंगलुरु एयरपोर्ट से निकलकर अपनी कार की ओर जाते केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा

एयरपोर्ट (Airport) पर उतरने के बाद मंत्री अपनी प्राइवेट कार से वहां से चले गए और उनके असिस्टेंट ने रिपोर्टरों को बताया कि गौड़ा का कोविड-19 टेस्ट (Covid-19 Test) निगेटिव पाया गया है और वो होम क्वारंटाइन (Quarantine) कर सकते हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बेंगलुरु. केंद्रीय मंत्री (Union minister) और बीजेपी सांसद सदानंद गौड़ा (BJP MP Sadananda Gowda) ने सोमवार को एक फ्लाइट से दिल्ली से बेंगलुरु (Bengaluru) पहुंचने के बाद होटल में क्वारंटाइन (Quarantine) नियमों का पालन नहीं किया.

एयरपोर्ट (Airport) पर उतरने के बाद मंत्री अपनी प्राइवेट कार से वहां से चले गए और उनके असिस्टेंट ने रिपोर्टरों को बताया कि गौड़ा का कोविड-19 टेस्ट (Covid-19 Test) निगेटिव पाया गया है और वो होम क्वारंटाइन (Home Quarantine) कर सकते हैं.

'मंत्री होने के नाते राज्य और केंद्र सरकार ने मुझे दी है छूट'
बाद में मीडिया से बात करते हुए, गौड़ा ने दावा किया कि हालांकि क्वारंटाइन पर जारी दिशानिर्देश सभी नागरिकों पर लागू होते हैं, लेकिन इसमें कुछ लोगों के लिए कुछ छूट दी गई हैं. उन्होंने अपनी बात में यह भी जोड़ा कि उनके मोबाइल में सरकार का कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग ऐप आरोग्य सेतु है. गौड़ा ने कहा, "एक मंत्री होने के नाते, मुझे राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने छूट दी हुई है, ऐसे में मैं कोई मामला नहीं देखता."



फ्रंटलाइन पर तैनात डॉक्टरों की स्थिति से तुलना की


गौड़ा ने कहा कि केंद्र के फार्मास्यूटिकल डिपार्टमेंट का प्रमुख होने के नाते, यह उनकी जिम्मेदारी थी कि यह तय करें कि दवाओं की कोई कमी नहीं हो. मंत्री ने कहा, "अगर मैं दवाओं की सप्लाई न करूं तो मामले दोगुने हो जाएंगे." उन्होंने इस परिस्थिति की तुलना फ्रंटलाइन पर कोरोना वायरस से लड़ रहे डॉक्टरों को क्वारंटाइन किये जाने से भी की. उन्होंने कहा, 'देशभर में दवाओं की आपूर्ति देखना मेरी जिम्मेदारी है. अगर डॉक्टर क्वारंटाइन किये जाएंगे, अगर जो लोग दवाओं की सप्लाई कर रहे हैं, उन्हें क्वारंटाइन किया जाएगा तो हम कोरोना वायरस को किस तरह हराएंगे.'

कर्नाटक ने 7 दिनों के सांस्थानिक और 7 दिन होम क्वारंंटाइन को किया है अनिवार्य
बता दें कि कर्नाटक सरकार ने घरेलू फ्लाइट के जरिये राज्य में आने वाले यात्रियों के लिए सात दिनों तक होटल में क्वारंटाइन किये जाने और इसके बाद सात दिनों तक घर में क्वारंटाइन किये जाने को अनिवार्य किया हुआ है. इसके बाद ही राज्य में दो महीने के अंतराल के बाद फ्लाइट सेवाएं शुरू हुई हैं. यह नियम उन सभी यात्रियों पर लागू होगा, जो अत्यधिक संक्रमण के खतरे वाले राज्यों जैसे महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात या तमिलनाडु से राज्य में आ रहे होंगे.

इन नियमों में कई छूट लेकिन मंत्रियों का कोई जिक्र नहीं
हालांकि कुछ लोगों के लिए वाकई छूट दी गई हैं, जिसमें अत्यावश्यक काम से आ रहे व्यापारियों को भी शामिल किया गया है. दिशानिर्देशों में यह भी कहा गया है कि जो लोग ICMR की मान्यता प्राप्त लैब से कोरोना टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आएंगे, वे संस्थागत क्वारंटाइन का पालन करने से बच सकते हैं. लेकिन यह टेस्ट यात्रा से दो दिन पूर्व के अंदर कराया गया होना चाहिए. और अगर वे पांच दिनों से ज्यादा रुकने वाले हैं तो उन्हें फिर से यह टेस्ट कराना होगा.

हालांकि दिशानिर्देशों में खासकर मंत्रियों को लेकर कोई छूट नहीं बताई गई है. सूत्रों के मुताबिक कई  मंत्रियों का नए कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) के लिए टेस्ट किया गया है. यह टेस्ट रविवार को फ्लाइट सेवाएं फिर से शुरू होने से पहले किया गया.

यह भी पढ़ें:- पत्नी के ऊपर जहरीला सांप छोड़ की थी हत्या, सच्चाई सामने आई, हुआ गिरफ्तार

News18 Polls- लॉकडाउन खुलने पर ये काम कब से करेंगे आप?
First published: May 25, 2020, 5:40 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading