अपना शहर चुनें

States

West Bengal Assembly Election 2021: बंगाल में नई हिन्दूवादी पार्टी की एंट्री, बीजेपी की राह करेगी मुश्किल?

बंगाल में सत्ताधारी टीएमसी को कांटे की टक्कर दे रही बीजेपी की राह मुश्किल कर सकती है हिंदू समहति
बंगाल में सत्ताधारी टीएमसी को कांटे की टक्कर दे रही बीजेपी की राह मुश्किल कर सकती है हिंदू समहति

West Bengal Assembly Election 2021: पश्चिम बंगाल में इस साल अप्रैल-मई में चुनाव है. हिंदू समहति नाम के एक संगठन ने चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. पार्टी ने कहा है कि वो बंगाल में कम से कम 170 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 15, 2021, 10:22 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) बेहद दिलचस्प हो सकते हैं. माना जा रहा है कि इस बार यहां तृणमूल कांग्रेस (TMC) और बीजेपी के बीच असली टक्कर होगी. लेकिन अब इस चुनाव में एक और नई पार्टी ने एंट्री का ऐलान कर दिया है. खास बात ये है कि ये पार्टी बीजेपी का 'खेल' खराब कर सकती है. दरअसल रविवार को हिंदू समहति ( Hindu Samhati) नाम के एक संगठन ने एक नई पार्टी का ऐलान किया है. इस संगठन ने अपनी पार्टी का नाम जन समहति रखा है. इस पार्टी की नजर हिंदू वोटरों पर है. पार्टी ने ऐलान किया है कि वो बंगाल में कम से कम 170 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है.


हिंदू समहति ने रविवार को अपना फाउंडेशन डे मनाया और इसी दिन बंगाल में चुनाव लड़ने का ऐलान भी कर दिया. इस संगठन की पैठ बंगाल के कई जिलों में है. खासकर बंगाल के दक्षिणी इलाकों में इसकी पकड़ खासी मजबूत है. साल 2008 में इस संगठन की स्थापना तपन घोष ने की थी. बता दें कि घोष राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के पूर्व प्रचारक थे.

ये भी पढ़ें:- पुलवामा जैसे हमले की साजिश नाकाम, प्रसिद्ध रघुनाथ मंदिर में धमाके की थी योजना
बीजेपी को टक्कर!


हिंदू समहति भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ आवाज उठाती रही है. पहली बार साल 2017 में ये संगठन सुर्खियों में आया था. उस वक्त बसरिहार दंगों के दौरान दो नाबालिग को तपन घोष ने कानूनी मदद दी थी. बता दें कि पिछली बारी यानी 2019 के चुनाव में इस पार्टी ने बीजेपी को अपना समर्थन दिया था. लेकिन अब संगठन ने अपना मन बदल दिया है और वो बीजेपी के ही वोट बैंक में सेंध लगाने की फिराक में है.

फिलहाल किसी पार्टी से गठबंधन नहीं
जन समहति के अध्यक्ष देवतनु भट्टाचार्य ने हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत करते हुए कहा, 'हिंदू समहति एक स्वतंत्र संगठन के रूप में काम करती रहेगी. जन समहति को एक राजनीतिक दल के रूप में पंजीकृत किया गया है. हम उत्तर बंगाल में 40 और दक्षिण बंगाल में 130 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. अभी हमारे पास दूसरे दलों से गठबंधन की कोई योजना नहीं है. हमने 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा का समर्थन किया था, लेकिन तब से लेकर अब तक हालात बदल गए हैं. बंगाल में सत्ता में आने पर आम लोगों को इसकी कीमत चुकानी पड़ती है. हिंदुओं ने भाजपा में अपना विश्वास खो दिया है.'

'बीजेपी का झूठा वादा'
देवतनु भट्टाचार्य ने आगे कहा, 'भाजपा नए नागरिकता कानून और NRC पर झूठे वादे कर रही है. असम और त्रिपुरा के कई हिंदू संगठन हमारे संपर्क में हैं. असम में डिटेंशन कैंप में हिंदू मारे जा रहे हैं. बंगाल में, पिछड़े मटुआ समुदाय, जिसने नागरिकता संशोधन अधिनियम को लागू करने की मांग की, उन्हें वोट के लिए मोहरे के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज