होम /न्यूज /राष्ट्र /

West Bengal Assembly Election: सोशल मीडिया से लेकर चुनाव आयोग के दफ्तर तक खूब लड़ी जा रही बंगाल की लड़ाई

West Bengal Assembly Election: सोशल मीडिया से लेकर चुनाव आयोग के दफ्तर तक खूब लड़ी जा रही बंगाल की लड़ाई

मंगलवार को जिन सीटों पर वोटिंग हो रही है वो दक्षिण 24-परगना, हुगली और हावड़ा जिलों में हैं. यहां काफी बड़ी संख्या में मुस्लिम वोटर हैं.

मंगलवार को जिन सीटों पर वोटिंग हो रही है वो दक्षिण 24-परगना, हुगली और हावड़ा जिलों में हैं. यहां काफी बड़ी संख्या में मुस्लिम वोटर हैं.

Bengal assembly Election: रविवार को एक ऑडियो टेप से हंगामा मच गया. बीजेपी ने कुछ ऑडियो टेप का जिक्र करते हुए आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली सरकार से ‘संरक्षण’ लेकर कुछ लोग राज्य में ‘वसूली गिरोह’ चला रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...
    (अमन शर्मा)

    कोलकाता. पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव (Bengal assembly Election) में सत्ता के लिए लड़ाई बेहद दिलचस्प होती जा रही है. बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस, दोनों तरफ से आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है. लिहाजा चुनाव प्रचार में गरमाहट बढ़ गई है. एक तरफ बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय हैं. तो दूसरी तरफ टीएमसी के चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर. दोनों खेमों से एक दूसरे पर हमले हो रहे हैं. ऑडियो टेप से लेकर सोशल मीडिया कैंपेन और फिर चुनाव आयोग में एक दूसरे के खिलाफ शिकायतें. हर दिन दोनों तरफ से निशाने साधे जा रहे हैं.

    रविवार को एक ऑडियो टेप से हंगामा मच गया. बीजेपी ने कुछ ऑडियो टेप का जिक्र करते हुए आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली सरकार से ‘संरक्षण’ लेकर कुछ लोग राज्य में ‘वसूली गिरोह’ चला रहे हैं. बीजेपी ने आरोप लगाते हुए कहा कि जिन लोगों की बात इस टेप में दर्ज है, वे ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी समेत राज्य सरकार के करीबी समझे जाते हैं. इस टेप के जरिए बीजेपी के सीनियर नेता दिनेश त्रिवेदी, शुभेंदु अधिकारी और अमित मालवीय ने आरोप लगाया कि अभिषेक बनर्जी सीधे तौर पर भ्रष्टाचार में शामिल हैं. हालांकि टीएमसी ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है.



    ऑडियो टेप का चुनाव पर असर
    इस कथित ऑडियो टेप की टाइमिंग समझना बेहद जरूरी है. दरअसल 6 अप्रैल को दक्षिण 24-परगना में चुनाव होने हैं. इस इलाके में अभिषेक बनर्जी एक प्रभावशाली नेता हैं. उनकी लोकसभा सीट, डायमंड हार्बर, इसी जिले में है. इस बार बीजेपी ने यहां से जीत के लिए पूरी ताकत झोंक दी है. दक्षिण 24-परगना एकमात्र ऐसा जिला है, जहां टीएमसी को 2019 के लोकसभा चुनावों में सभी 31 विधानसभा क्षेत्रों में बढ़त मिली थी. दक्षिण 24-परगना में मुस्लिमों के 30% मतदाता हैं - जो भाजपा के लिए बड़ी चुनौती है. अमित मालवीय ने पहले इस बात के संकेत दिए हैं कि यहां मुसलमान भारतीय धर्मनिरपेक्ष मोर्चा (ISF) के अब्बास सिद्दीकी को वोट दे सकते हैं, न कि TMC को.

    ये भी पढ़ें:- भ्रष्टाचार मामले में कर्नाटक के CM बीएस येदियुरप्पा को SC से बड़ी राहत

    ऑडियो टेप की लड़ाई
    इससे पहले, 27 मार्च को, बीजेपी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का एक कथित ऑडियो टेप जारी किया था. जिसमें वो मेदिनीपुर में एक बीजेपी नेता से मदद मांग रही थी. इसके बाद टीएमसी ने एक कथित ऑडियो टेप जारी किया जिसमें बीजेपी नेता मुकुल रॉय और शिशिर बाजोरिया चुनाव आयोग को प्रभावित करने के बारे में बातें कर रहे थे. टीएमसी और बीजेपी दोनों एक दूसरे की रैली को लेकर भी वीडियो टेप जारी कर रहे हैं. जहां दिख रहा है कि रैली के दौरान भीड़ नहीं है और मैदान खाली है. दोनों एक दूसरे के खिलाफ माइंड गेम खेल रहे हैं.

    मोदी की रैली
    बंगाल के चुनाव में पीएम मोदी ने अब तक पहले तीन फेज के दौरान 8 रैलियां की हैं. 18 अप्रैल को उन्होंने ब्रिगेड ग्राउंड पर पहली बार रैली की थी. 6 अप्रैल को, पीएम चौथे चरण के चुनाव प्रचार के लिए कूचबिहार और हुगली में होंगे, जबकि हुगली और हावड़ा में तीसरे चरण के कुछ निर्वाचन क्षेत्र पर उस दिन मतदान होंगे. मोदी इस सप्ताह के अंत में और भी रैलियां करेंगे. बीजेपी के सूत्रों ने कहा कि बाकी शेड्यूल को अभी भी अंतिम रूप दिया जा रहा है. गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा भी अब बंगाल में अधिक समय बिताएंगे और कुछ दिनों के लिए यहां डेरा डाल सकते हैं.undefined

    Tags: Assembly Election 2021, Bengal Assembly Elections 2021, Mamta Bannerjee

    अगली ख़बर