Black Fungus: बेंगलुरू में जानलेवा फंगस के 500 मरीज, अस्पताल में कम पड़ने लगे बेड

बेंगलुरू में ब्लैक फंगस के मामले 500 तक पहुंचे.

बेंगलुरू में ब्लैक फंगस के मामले 500 तक पहुंचे.

कोरोना वायरस के बाद ब्लैक फंगस नाम की महामारी ने देश के कई राज्यों में अपने पांव तेज़ी से पसारने शुरू कर दिए हैं. म्यूकरमायकोसिस या ब्लैक फंगस के करीब 500 मामले अकेले टेक सिटी बेंगलुरू में सामने आए हैं. अब फंगस से जूझ रहे मरीजों को अस्पताल में बेड भी नहीं मिल पा रहा.

  • Share this:

बेंगलुरू. कोरोना वायरस के संक्रमण के साथ ही देश में ब्लैक फंगस के बढ़ते मरीजों ने भी स्वास्थ्य महकमे के सामने चुनौती खड़ी कर दी है. बेंगलुरू में म्यूकरमायकोसिस (Mucormycosis) या फिर ब्लैक फंगस के इतने मरीज बढ़ गए हैं कि अब शहर के अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगे हैं. फंगल इंफेक्शन के मरीजों के लिए जो वार्ड बने थे, वहां बेड फुल हो चुके हैं. हालात ये हैं कि मरीजों को इलाज के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है. इससे पहले बेंगलुरू के अस्पतालों में म्यूकरमायकोसिस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले लिपोसोमल एम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन (Amphotericin B) की किल्लत थी, लेकिन अब संक्रमण बढ़ने के बाद मरीजों को भर्ती करने की भी समस्या आ पड़ी है.

म्यूकरमाइकोसिस एक गंभीर फंगस संक्रमण (Fungal Infection) है. इस बीमारी के मरीजों को लगभग दो हफ्ते तक अस्पताल में देखभाल की जरूरत होती है. यह संक्रमण नाक के रास्ते से होते हुए आंख की ओर जाता है और एक बार ये मस्तिष्क में फैल जाए तो मरीज की जान भी जा सकती है. इस वक्त ये फंगल इन्फेक्शन कोरोना से ठीक होने वाले कई मरीजों में देखा जा रहा है. विशेषज्ञों के मुताबिक स्टेरॉयड (Steroids) की हाई डोज लेने और कोविड के इलाज के दौरान ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले मरीजों को ये फंगस अपना निशाना बना रहा है, क्योंकि इनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता खासी कम हो चुकी होती है .

ये भी पढे़ं- बच्चों में कोरोना के बाद MIS-C ने बढ़ाई चिंता, दिल और किडनी हो सकते हैं प्रभावित

मिंटो हॉस्पिटल से रेफर किए जा रहे हैं मरीज
बेंगलुरू के जाने-माने मिंटो आई हॉस्पिटल में ब्लैक फंगस के अब तक 80 से ज्यादा मरीज आ चुके हैं. इनमें से 50 को भर्ती किया गया है, जबकि बाकी का ओपीडी में इलाज किया गया है. ऐसे कई मरीज हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती होने की ज़रूरत थी, लेकिन बेड की कमी की वजह से उन्हें दूसरे अस्पतालों में रेफर कर दिया गया. मिंटो अस्पताल की निदेशक डॉ सुजाता राठौड़ ने कहा, हमारे पास दो ऐसे भी मामले आए हैं, जिनका इलाज कोविड अस्पतालों में नहीं हुआ. ऐसे में हम नहीं जानते कि उन्हें ब्लैक फंगस का संक्रमण कहां से लगा. ऐसा मामला भी सामने आया है, जिसमें 24 वर्षीय कैंसर मरीज को कभी कोरोना नहीं हुआ मगर ब्लैक फंगस हो गया है. हम नहीं जानते कि वे म्यूकरमाइकोसिस से कैसे संक्रमित हुआ.

बॉरिंग एंड लेडी कर्जन अस्पताल के निदेशक डॉ मनोज कुमार ने बताया कि म्यूकरमाइकोसिस के इलाज के लिए अस्पताल में 35 बेड रिजर्व किए गए थे और फिलहाल सभी 35 बेड्स पर मरीज भर्ती हो चुके हैं.




बेंगलुरु में ब्लैक फंगस के 400 -500 मरीज

एक्सपर्ट्स बताते हैं कि इस वक्त अकेले बेंगलुरू में ब्लैक फंगस के 400-500 मरीज मौजूद हैं. जबकि दूसरे जिलों में भी 25 केस हैं. सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 53 मरीजों का म्यूकरमाइकोसिस का इलाज चल रहा है. बेड फुल होने की वजह से इस अस्पताल ने नए मरीज लेने बंद कर दिए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज