अपना शहर चुनें

States

आज शाम अमित शाह से मिलेंगे किसान नेता राकेश टिकैत, बोले- अब इसका समापन होना चाहिए

आज शाम 7 बजे अमित शाह से मिलेंगे किसान नेता (फोटो साभार-ANI)
आज शाम 7 बजे अमित शाह से मिलेंगे किसान नेता (फोटो साभार-ANI)

Bharat Bandh: ऐसा कहा जा रहा है कि राकेश टिकैत ने गाजीपुर बॉर्डर खुलवा दिया है. साथ ही वह अन्य किसान संघों से बात करने के लिए सिंघू सीमा रवाना हो गए हैं. News18 से खास बातचीत में टिकैत ने कहा कि अब लग रहा है कि बस एक कदम दूर हैं. अब समापन होना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2020, 4:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में आज किसानों ने 'भारत बंद' (Bharat Bandh) बुलाया है. देश के अलग-अलग राज्‍यों में इसका व्‍यापक असर दिख रहा है. किसानों के समर्थन में राजनीतिक दल भी उतरे हैं. इस बीच, भारतीय किसान यूनियन (Bharatiya Kisan Union) के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा है कि 13-14 प्रतिनिधि आज शाम 7 बजे अमित शाह (Amit Shah) से मुलाकात करेंगे. ऐसा कहा जा रहा है कि टिकैत ने गाजीपुर बॉर्डर खुलवा दिया है. साथ ही वह अन्य किसान संघों से बात करने के लिए सिंघू सीमा रवाना हो गए हैं. News18 से खास बातचीत में टिकैत ने कहा कि अब लग रहा है कि बस एक कदम दूर हैं. अब समापन होना चाहिए.

भारत बंद के बीच, दिल्‍ली-नोएडा बॉर्डर (Delhi-Noida Border) पर राष्‍ट्रीय दलित प्रेरणा स्‍थल के पास भारतीय किसान यूनियन का एक प्रतिनिधि पुलिस अधिकारियों से बातचीत का रहा था. उसी दौरान वहां एक एंबुलेंस दिखी तो उसने बातचीत के बीच में ही प्रदर्शनकारियों से कहा कि बिना किसी बाधा के एम्‍बुलेंस को वहां से जाने दिया जाए.


हरियाणा, पंजाब से और किसान पहुंचे, बंद से प्रदर्शनकारियों की राशन आपूर्ति बाधित होने की संभावना
पंजाब और हरियाणा से ट्रैक्टर ट्रॉलियों व कारों में सवार होकर और किसान मंगलवार को यहां सिंघु बॉर्डर पर पहुंचे जहां केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनकारी किसानों की तरफ से बुलाए गए 'भारत बंद' के कारण सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं. भारत बंद की वजह से हालांकि लगातार 13 दिनों से सिंघु बॉर्डर पर डटे किसानों के लिए चावल, आटा, दाल, तेल, दूध, साबुन और दंतमंजन जैसी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति भी प्रभावित हुई है. पानीपत से आए गुरजैंत सिंह ने कहा, 'स्वाभाविक रूप से राशन की आपूर्ति प्रभावित होगी. लेकिन अगले दो-तीन महीनों के लिए हमारे पास पर्याप्त भंडार है. हम लंबे समय तक के लिए तैयारी के साथ आए थे.'



ये भी पढ़ें: भारत बंद Live Updates: अमित शाह से आज शाम मिलेंगे किसान नेता, राकेश टिकैत ने खुलवाया गाज़ीपुर बॉर्डर

ये भी पढ़ें: Bharat Band: मथुरा के टोल प्लाजा पर किसानों का कब्जा, यमुना एक्सप्रेस वे पर लगा भीषण जाम

उन्होंने कहा कि लेकिन यह संख्या बढ़नी शुरू हो गई है और बहुत से लोग साइकिलों और बैलगाड़ियों आ रहे हैं. दोपहर के भोजन के समय प्रदर्शनकारी कुछ गैर सरकारी संगठनों द्वारा संचालित लंगर में भोजन के लिए कतारबद्ध बैठे नजर आए. भोजन के बाद कुछ किसान आराम करने के लिए ट्रॉलियों में चले गए जबकि कुछ अन्य मंच से भाषण दे रहे अपने नेताओं को सुनने लगे. ट्रैक्टरों पर लगे स्पीकरों से पंजाबी और हरियाणवी गाने तेज आवाज में बज रहे थे जबकि क्षेत्र की सर्विस लेन में जीपों और कारों में युवा बैठे नजर आए. बहुत से लोग वहां दैनिक उपयोग की वस्तुएं जिनमें अंत:वस्त्र, बालों में लगाने का तेल, क्रीम, मोजे और साबुन आदि शामिल हैं, लिए घूम रहे थे और जरूरतमंद प्रदर्शनकारियों को यह मुफ्त में वितरित कर रहे थे.

मोहाली से आए राजिंदर सिंह कोहली ने कहा कि उनकी संख्या प्रतिदिन बढ़ रही है. प्रदर्शनकारी किसान संघों के भारत बंद की वजह से सड़कों पर वाहन कम दिखे. ऐप आधारित कैब, ऑटो रिक्शा और डीटीसी बसें हालांकि रोड पर देखी जा सकती थीं. सिंघु बॉर्डर की तरफ जा रही सड़कों पर अधिकतर दुकानों बंद थीं. बंद के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने सभी बॉर्डरों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज