Home /News /nation /

कोवैक्सिन बूस्टर शॉट के असर को परखना चाहता है भारत बायोटेक, DCGI से मांगी टेस्टिंग की इजाजत

कोवैक्सिन बूस्टर शॉट के असर को परखना चाहता है भारत बायोटेक, DCGI से मांगी टेस्टिंग की इजाजत

भारत बायोटेक द्वारा निर्मित कोरोना-रोधी वैक्सीन कोवैक्सीन. (फाइल फोटो)

भारत बायोटेक द्वारा निर्मित कोरोना-रोधी वैक्सीन कोवैक्सीन. (फाइल फोटो)

Covaxin Booster Shot: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को घोषणा की कि अगले साल तीन जनवरी से 15 साल से 18 साल की आयु के बीच के बच्चों के लिये कोविड टीकाकरण अभियान आरंभ किया जाएगा. साथ ही 10 जनवरी से स्वास्थ्य व अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों, अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित 60 साल से ऊपर के लोगों को एहतियात के तौर पर टीकों की खुराक दिए जाने की शुरुआत की जाएगी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली/रुनझुन शर्मा. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने अपने कोविड-19 वैक्सीन कोवैक्सिन की तीसरी खुराक की प्रभावकारिता का मूल्यांकन करने के लिए भारत के दवा नियामक से नैदानिक ​​परीक्षण (क्लीनिकल ट्रायल) करने की अनुमति मांगी है. एक शीर्ष सरकारी अधिकारी के अनुसार, स्वदेशी वैक्सीन निर्माता कंपनी ने दूसरी और तीसरी खुराक के बीच छह महीने का अंतर रखते हुए, 5,000 स्वस्थ स्वयंसेवकों पर कोवैक्सिन के बूस्टर शॉट (Covaxin Booster Shot) के लिए नैदानिक ​​परीक्षण करने का प्रस्ताव रखा है. सरकारी अधिकारी ने कहा कि इसके अतिरिक्त, फर्म ने लगभग 500 एचआईवी पॉजिटिव रोगियों को शामिल करने वाले प्रतिरक्षात्मक व्यक्तियों पर परीक्षण चलाने का भी प्रस्ताव दिया है.

    एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को घोषणा की कि अगले साल तीन जनवरी से 15 साल से 18 साल की आयु के बीच के बच्चों के लिये कोविड टीकाकरण अभियान आरंभ किया जाएगा. साथ ही 10 जनवरी से स्वास्थ्य व अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों, अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित 60 साल से ऊपर के लोगों को एहतियात के तौर पर टीकों की खुराक दिए जाने की शुरुआत की जाएगी.

    कोविशील्ड को नहीं मिली थी बूस्टर डोज के लिए इजाजत
    हाल ही में, अदार पूनावाला के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने भी पर्याप्त स्टॉक और बूस्टर शॉट की मांग का हवाला देते हुए कोविशील्ड को बूस्टर खुराक के रूप में लगाने के लिए भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) की मंजूरी मांगी थी, लेकिन अनुरोध को अस्वीकार कर दिया गया था.

    डीसीजीआई ने कोविशील्ड से डाटा जमा करने को कहा
    सूत्रों के अनुसार, डीसीजीआई के विशेषज्ञ पैनल ने सीरम इंस्टीट्यूट के आवेदन की समीक्षा की और फर्म को बूस्टर के अनुरोध को सही ठहराने के लिए स्थानीय नैदानिक ​​परीक्षण डाटा (Local Clinical Trial Data) जमा करने के लिए कहा. इसके अलावा, SII ने ब्रिटेन के अध्ययन से केवल 75 विषयों का इम्युनोजेनेसिटी डाटा प्रस्तुत किया था.

    WHO ने दी थी बूस्टर डोज की सलाह
    इस महीने की शुरुआत में, विश्व स्वास्थ्य संगठन के टीकाकरण पर विशेषज्ञों के रणनीतिक सलाहकार समूह ने कहा था कि जो लोग प्रतिरक्षाविहीन हैं या जिन्हें एक निष्क्रिय कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त हुआ है, उन्हें एंटीबॉडीज में कमी और नए वेरिएंट ओमिक्रॉन की वजह से बढ़ते कोविड-19 मामलों के मद्देनजर सुरक्षा के लिए बूस्टर शॉट्स लेना चाहिए.

    Tags: Bharat Biotech, Booster Dose, Coronavirus, Coronavirus vaccine, Covaxin

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर