Covaxin वैक्‍सीन लगवाने वाले सितंबर तक कर सकेंगे विदेश यात्रा, कंपनी ने WHO में किया आवेदन

कोवैक्सिन लगवाने वाले संभवत: जा पाएंगे विदेश. (File pic)

कोवैक्सिन लगवाने वाले संभवत: जा पाएंगे विदेश. (File pic)

Covaxin: भारत बायोटेक ने इस संबंध में उम्‍मीद जताई है कि जुलाई से सितंबर बीच नियामक की ओर से कोवैक्सिन को अनुमति मिल जाएगी.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) को देखते हुए भारत समेत अधिकांश देशों ने अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों (International Travel Ban) पर रोक लगा रखी है. हालांकि कुछ देश ऐसे हैं जो अब इन प्रतिबंधों को हटा रहे हैं. इस बीच भारत में कोरोना वैक्‍सीन कोवैक्सिन (Covaxin) बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) को पत्र लिखकर कोवैक्सिन को आपात इस्‍तेमाल की सूची में डालने के लिए आवेदन किया है. अगर सब ठीक रहा तो इसका लाभ यह होगा कि भारत में जो लोग कोवैक्‍सिन का टीका लगवाए हैं, वे सितंबर तक विदेश यात्रा कर सकेंगे.

भारत बायोटेक ने इस संबंध में उम्‍मीद जताई है कि जुलाई से सितंबर बीच नियामक की ओर से कोवैक्सिन को अनुमति मिल जाएगी. अगर ऐसा होता है तो इसे लगवाने वाले लोग विदेश यात्रा कर सकेंगे. अमेरिका, हंगरी, ब्राजील समेत करीब 60 देशों में कोवैक्सिन मंजूर टीकों की सूची में शामिल करने की प्रक्रिया चल रही है.

अभी तक अमेरिका, कनाडा, ऑस्‍ट्रेलिया, आयरलैंड और यूरोपीय देशों ने कोवैक्सिन को स्‍वीकृत टीकों की सूची में शामिल नहीं किया है. बता दें कि कोरोना काल में दूसरे देशों की यात्रा के लिए टीकाकरण को आधार बनाया गया है. डब्‍ल्‍यूएचओ ने उन वैक्सीन की सूची तैयार की है, जिनको लगवाने वाले लोग दूसरे देशों में जाने के योग्‍य माने जाएंगे.


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार सोमवार को कोरोना वायरस टीके की 31 लाख से अधिक डोज लगाई गई. इसके साथ ही देश में कोविड टीके की लगाई गई खुराकों की कुल संख्या 23.59 करोड़ को पार कर गई. मंत्रालय ने कहा कि सोमवार को 18-44 साल के आयु वर्ग के 16,07,531 लाभार्थियों को पहली खुराक दी गई जबकि इसी आयु वर्ग के 68,661 लोगों को दूसरी खुराक दी गई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज