• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • BHARAT BIOTECH SETTING UP COVAXIN VACCINE UNIT IN KARNATAKA MALURU SAYS DEPUTY CM

कोरोना वैक्सीन का बढ़ेगा उत्पादन, कर्नाटक में मैन्यूक्चरिंग यूनिट लगाएगी भारत बायोटेक

उप मुख्यमंत्री ने एक बयान में कहा, 'पड़ोस के कोलार जिले के मलूर औद्योगिक क्षेत्र में जल्द से जल्द भारत बायोटेक के कोवैक्सीन टीके का विनिर्माण संयंत्र स्थापित किया जाएगा.'

आपको बता दें कि भारत में फिलहाल कोवैक्सिन का उत्पादन थोड़ा धीमा चल रहा है. ऐसे में इसकी गति को बढ़ाने के लिए यह फैसला लिया गया है.

  • Share this:
    बेंगलुरु. कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री और राज्य कोविड कार्य बल के प्रमुख डॉ. सी एन अश्वत नारायण ने कहा कि भारत बायोटेक बेंगलुरु के पास कोलार जिले में जल्द ही कोवैक्सीन टीके (Corona Vaccine) का एक विनिर्माण संयंत्र स्थापित करेगा.

    उन्होंने शुक्रवार को कहा कि संयंत्र के लिए निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और सरकार ने निवेशकों को राज्य में टीके का निर्माण करने के लिए आमंत्रित किया है. डॉ. नारायण सूचना प्रौद्योगिकी एवं जैव-प्रौद्योगिकी विभाग भी देखते है. उप मुख्यमंत्री ने एक बयान में कहा, 'पड़ोस के कोलार जिले के मलूर औद्योगिक क्षेत्र में जल्द से जल्द भारत बायोटेक के कोवैक्सीन टीके का विनिर्माण संयंत्र स्थापित किया जाएगा.'

    उन्होंने कहा, 'सरकार ने परियोजना को मंजूरी दे दी है और कंपनी प्रशासनिक जरूरतों को संसाधित कर रही है. निर्माण कार्य पहले ही शुरू हो गया है और जितनी जल्दी संभव हो, उतनी जल्दी विनिर्माण परिचालन शुरू करने के लिए इसे जल्दी ही पूरा कर लिया जाएगा.'

    नारायण ने साथ ही कहा कि राज्य टीका निर्माण से जुड़ी किसी भी कंपनी का स्वागत करता है और उसे पूरा सहयोग देगा.

    दूसरी कंपनियां भी बनाएंगी कोवैक्सिन
    आपको बता दें कि भारत में फिलहाल कोवैक्सिन का उत्पादन थोड़ा धीमा चल रहा है. ऐसे में इसकी गति को बढ़ाने के लिए यह फैसला लिया गया है. नीति आयोग की स्वास्थ्य समिति के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा, "लोग कहते हैं कि कोवैक्सिन के निर्माण की जिम्मदेरी अन्य कंपनियों को भी दी जानी चाहिए. मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि चर्चा के दौरान Covaxin निर्माण कंपनी (भारत बायोटेक) ने इसका स्वागत किया है."

    ये भी पढ़ेंः- चीन के लैब से निकला कोरोना? टॉप 18 वैज्ञानिकों ने कहा- थ्योरी से इनकार नहीं कर सकते हैं

    सरकारी आंकड़ो के अनुसार, भारत में रोजाना 4000 के करीब मरीजों की कोरोना के कारण मौत हो रही है. संक्रमण के नए मामले भी बीते दिनों चार लाख के पार कर गए.  इस बीच कई राज्यों में टीकों की कमी के बीच एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की खुराक के बीच के अंतराल को 16 सप्ताह तक बढ़ा दिया गया है. भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने विशेषज्ञों की भी चिंता बढ़ा दी है.