होम /न्यूज /राष्ट्र /

भारत बायोटेक ने बच्चों में कोवैक्सीन के चिकित्सीय परीक्षण के आंकड़े सीडीएससीओ को सौंपे

भारत बायोटेक ने बच्चों में कोवैक्सीन के चिकित्सीय परीक्षण के आंकड़े सीडीएससीओ को सौंपे

फाइल फोटो

फाइल फोटो

भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्णा एला ने 21 सितंबर को कहा था कि बाल चिकित्सा कोवैक्सीन ने लगभग 1,000 विषयों के साथ चरण 2/3 परीक्षण पूरा कर लिया है और आंकड़ों का विश्लेषण जारी है.

    नई दिल्ली. भारत बायोटेक ने 18 साल से कम उम्र के बच्चों में इस्तेमाल के लिए कोविड-19 रोधी टीके कोवैक्सीन के दूसरे चरण का परीक्षण पूरा कर लिया है और इसके सत्यापन तथा आपातकालीन उपयोग की मंजूरी के लिए आंकड़े केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) को सौंप दिए हैं.कंपनी के सूत्रों ने कहा, सीडीएससीओ को 2-18 वर्ष आयु वर्ग के लिए कोवैक्सीन चिकित्सीय ​​परीक्षण डेटा प्रस्तुत किया गया है … यह विनिर्माण प्लेटफॉर्म की सुरक्षा और वयस्कों में चरण 1, 2 और 3 चिकित्सीय ​​​​परीक्षणों से अनुभवजन्य साक्ष्य के कारण संभव है.

    भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्णा एला ने 21 सितंबर को कहा था कि बाल चिकित्सा कोवैक्सीन ने लगभग 1,000 विषयों के साथ चरण 2/3 परीक्षण पूरा कर लिया है और आंकड़ों का विश्लेषण जारी है.

    मौजूदा समय में देश के अंदर 18 साल से कम आयु के बच्चों को कोरोना रोधी टीका लगाने की मंजूरी नहीं है. अभी तक डीसीजीआई ने जिन 6 टीकों को देश में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है, उनमें से सिर्फ जाकोव-डी ही ऐसी है जो 18 साल से कम आयुवर्ग के लोगों को भी दी जा सकती है. इस टीके को 12 साल से ऊपर की उम्र वालों को दिए जाने की मंजूरी मिली हुई है.

     बता दें कि देश में बच्चों के टीकाकरण का ऐलान अभी तक नहीं हुआ है लेकिन कोरोना की तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच इसे बच्चों के लिए ही सबसे बड़ा खतरा माना जा रहा है. स्कूलों के खुलने से इस आशंका को और बल मिल गया है. देश में अभी तक कोरोना टीके की 90 करोड़ से ज्यादा खुराकें दी जा चुकी हैं. भारत में इसी साल 16 जनवरी से कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था.

    Tags: Corona vaccine, Corona vaccine news, Corona Vaccine Update, Coronavaccine

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर