होम /न्यूज /राष्ट्र /

भारत बायोटेक का ऐलान- फिलहाल कम किया जाएगा कोवैक्सीन का प्रोडक्शन, ये है वजह

भारत बायोटेक का ऐलान- फिलहाल कम किया जाएगा कोवैक्सीन का प्रोडक्शन, ये है वजह

भारत बायोटेक ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि पिछले एक साल के दौरान सार्वजनिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने लगातार काम किया (फोटो- भारत बायोटेक)

भारत बायोटेक ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि पिछले एक साल के दौरान सार्वजनिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने लगातार काम किया (फोटो- भारत बायोटेक)

Bharat Biotech: कंपनी ने कहा है कि प्रोडक्शन के दौरान कुछ अच्छे इक्विपमेंट की जरूरत थी, लेकिन कोरोना के चलते ये उपलब्ध नहीं हो सके. हालांकि कंपनी के मुताबिक कोरोना की वैक्सीन की गुणवत्ता से किसी भी समय समझौता नहीं किया गया.

    नई दिल्ली. फार्मा कंपनी भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने कहा है कि वो फिलहाल कोवैक्सीन (Covaxin ) के प्रोडक्शन को कम करने जा रहे हैं. कंपनी के मुताबिक वैक्सीन की डिमांड को फिलहाल पूरा कर लिया गया है. बता दें कि भारत बायोटेक ने कोरोना (Covid-19) से लड़ने के लिए देश का पहला स्वदेशी वैक्सीन तैयार किया था. कंपनी ने कहा किआने वाले समय में वो सुविधा और रखरखाव, पर ध्यान केंद्रित करेगी.

    भारत बायोटेक ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि पिछले एक साल के दौरान सार्वजनिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने लगातार काम किया. कंपनी के मुताबिक ऐसे में अब अपग्रेड की जरूरत है. कंपनी अब लंबित सुविधा रखरखाव, प्रक्रिया और सुविधा अनुकूलन गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करेगी.

    बेहतर इक्विपमेंट की जरूरत
    कंपनी ने कहा है कि प्रोडक्शन के दौरान कुछ अच्छे इक्विपमेंट की जरूरत थी, लेकिन कोरोना के चलते ये उपलब्ध नहीं हो सके. हालांकि कंपनी के मुताबिक कोरोना की वैक्सीन की गुणवत्ता से किसी भी समय समझौता नहीं किया गया. उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में अपग्रेड करने के बाद वैक्सीन के प्रोडक्शन में और इज़ाफा होगा.

    क्या कहा डब्ल्यूएचओ ने
    हाल ही में डब्ल्यूएचओ के बाद के ईयूएल निरीक्षण के दौरान, भारत बायोटेक ने डब्ल्यूएचओ टीम के साथ नियोजित सुधार गतिविधियों के दायरे पर सहमति व्यक्त की. साथ ही संकेत दिया कि उन्हें जल्द से जल्द व्यावहारिक रूप से निष्पादित किया जाएगा. स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन कोविड-19  के खिलाफ 77.8 फीसदी प्रभावी रही है. इस बात की जानकारी मेडिकल जर्नल लैंसेट  में प्रकाशित हुए स्टडी से मिली है.  पिछले साल चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एन.वी. रमण ने कहा था कि कई बहु-राष्ट्रीय कंपनियों ने मेड इन इंडिया वैक्सीन – Covaxin को WHO की अनुमति ना मिले, इसकी बहुत कोशिश की. सीजेआई ने

    Tags: Bharat Biotech, Covaxin

    अगली ख़बर