भारत बायोटेक ने Covaxin के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए WHO से मांगी मंजूरी

कई सारे देश अपने यहां आवागमन के लिए टीकाकरण को अनिवार्य बना रहे हैं. फाइल फोटो

कई सारे देश अपने यहां आवागमन के लिए टीकाकरण को अनिवार्य बना रहे हैं. फाइल फोटो

देसी वैक्सीन कोवैक्सीन के आपात इस्तेमाल को मंजूरी देने के लिए भारत बायोटेक ने WHO को अर्जी दी है. हैदराबाद की इस कंपनी की अर्जी पर विश्व स्वास्थ्य संगठन मई-जून के बीच सुनवाई भी करने वाला है. अगर कोवैक्सीन को मंजूरी मिली तो अंतरराष्ट्रीय मान्यता वाली ये देश की दूसरी वैक्सीन बन जाएगी.

  • Share this:

नई दिल्ली: भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन में कोवैक्‍सीन (Covaxin) के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी के लिए अर्जी दी है. भारत बायोटेक ने WHO में ये अर्जी 19 अप्रैल को दी थी. अब इस पर चर्चा के लिए मई-जून का वक्त निर्धारित किया गया है. अगर इस अवधि में कोवैक्सीन को मंजूरी मिल जाती है तो इसे अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिलेगी और कोवैक्‍सीन लगवाने वाले लोग भी विदेश जा सकेंगे.

हैदराबाद की भारत बायोटेक (Bharat Biotech) कंपनी ने अपनी एंटी कोरोना वैक्सीन, कोवैक्‍सीन (Covaxin) के आपात इस्तेमाल की मंजूरी देने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) में आवेदन दे दिया है. यह आवेदन इमरजेंसी यूज लिस्टिंग यानी तुरंत सुनवाई होने वाले मुद्दों की कैटेगरी में रखा गया है. जिस पर सुनवाई के लिए मई-जून का महीना निर्धारित किया गया है. अगर वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन कोवैक्सीन को भी मंजूरी दे देता है तो ये भारत की दूसरी वैक्सीन हो जाएगी, जिसे अंतरराष्ट्रीय मान्यता दी गई हो.

Youtube Video

क्या होगा फायदा?
भारत की देसी वैक्सीन को WHO से मंजूरी मिलने के बाद सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि टीका लगवा चुके भारतीय लोग दुनिया में कहीं भी आने-जाने के पात्र होंगे. दूसरा फायदा ये है कि जिन देशों से कोवैक्सीन की मान्यता पर बात चल रही है, वे अंतरराष्ट्रीय मंजूरी मिलने के बाद इसे अनुमति देने में हिचकेंगे नहीं. इससे पहले भारतीय टीके कोविडशील्ड को WHO ने 15 फरवरी 2021 को मंजूरी दी थी.

ये भी पढ़ें- Cyclone Yaas से निपटने की युद्धस्तर पर तैयारी, ओ़डिशा और बंगाल के पोर्ट अलर्ट पर   

इन टीकों को मिल चुकी है मंजूरी 



EUL यानि इमरजेंसी यूज़ लिस्टिंग की कैटेगरी में आवेदन देने के लिए 3 स्टेप से गुजरना होता है. भारत अब इस प्रक्रिया में आ चुका है. WHO ने अब तक 7 वैक्सीन को कोरोना महामारी से लड़ने के लिए मान्यता दी है. इनमें Pfizer's Comirnaty, Astrazeneca's AZD1222, Janssen's Ad26.COV2.S, Moderna's mRNA-1273 और Sinopharm's SARS-CoV-2 Vaccine शामिल हैं. भारत की कोवैक्सीन के अलावा रूस ने स्पूतनिक वी, चीन ने Sinovac और क्यूबा ने Soberana 01,02, Plus के लिए WHO में आवेदन कर रखा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज