BJP महामंत्रियों की मीटिंग में 2 दिनों तक आगामी चुनाव और कोरोना पर होगा मंथन

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा

BJP: अगले साल उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गुजरात, गोवा और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं. इनमें से पंजाब को छोड़कर सभी बीजेपी शासित राज्य हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (Bharatiya Janata Party president JP Nadda) आगामी विधानसभा चुनाव के संबंध में पार्टी की रणनीति पर चर्चा करने वाले हैं. इसके अलावा कोराना के मौजूदा हालात की समीक्षा और आगामी लहर की  तैयारियों पर भी बातचीत की जाएगी.  बता देंकि 5 और 6 जून को राष्ट्रीय महासचिवों की दिल्ली मे दो दिवसीय बैठक करेंगे

.

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए अभी से मंथन करना शुरू कर दिया है. लेकिन इसके साथ ही इस मीटिंग में कोरोना की दूसरी लहर से हुए नुक़सान के कारण राजनीतिक नुक़सान ना हो इस पर भी मंथन किया जायेगा.

कोरोना की दूसरी लहर में इस बार पहले की तुलना में ज़्यादा नुक़सान हुआ. बीजेपी आलाकमान को ज़िलों और राज्यों से रिपोर्ट मिली थी कि इस बार जनता के साथ साथ पार्टी के आधार स्तंभ यानि पार्टी कार्यकर्ताओं की नाराज़गी भी काफ़ी ज़्यादा है ऐसे में राजनीतिक नुक़सान ना हो इसके लिए बीजेपी अध्यक्ष नड्डा ने “सेवा ही संगठन” अभियान पूरे देश में चलाया और पार्टी के माध्यम से गांव गांव तक ज़रूरतमंदों को सहायता पहुंचाने का काम किया.
ये भी पढ़ें:- भारत-पाकिस्तान सीमा पर BSF की सबसे बड़ी कार्रवाई, 300 करोड़ की हेरोइन जब्‍त

अगले साल उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गुजरात, गोवा और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं. इनमें से पंजाब को छोड़कर सभी  बीजेपी शासित राज्य हैं. ऐसे में बीजेपी फिर से इन राज्यों में क़ाबिज़ होने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती इसलिये वर्तमान परिस्थितियों के राजनीतिक माहौल को देखते हुए बीजेपी आलाकमान लगातार सक्रिय है. बीजेपी की रणनीति यही है कि अभी की परिस्थितियों के मुताबिक़ ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक संगठन के माध्यम से सेवा कार्य पहुंचे जिससे उनके ज़ख़्मों पर मरहम लगाने का काम हो सके और जो नाराज़गी है वो जल्दी से जल्दी ख़त्म की जा सके.




शनिवार और रविवार दो दिनों तक राष्ट्रीय महामंत्रियों की बैठक में इन्हीं बिंदुओं पर चर्चा करके रणनीति तैयार की जायेगी और पहले से कोरोना काल में चल रहे सेवा कार्यों की समीक्षा की जायेगी. इसके साथ ही तीसरी लहर को लेकर पार्टी की तैयारियों का रोडमैप भी इसमें तैयार किया जायेगा. इसके साथ-साथ बंगाल चुनाव में उम्मीद के मुताबिक़ परिणाम ना आने की भी समीक्षा की जा सकती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज