Home /News /nation /

भीमा-कोरेगांव मामला : CJI गोगोई के बाद जस्टिस गवई भी गौतम नवलखा की सुनवाई से हटे

भीमा-कोरेगांव मामला : CJI गोगोई के बाद जस्टिस गवई भी गौतम नवलखा की सुनवाई से हटे

भीमा-कोरेगांव मामला : CJI के बाद जस्टिस गवई भी गौतम नवलखा की सुनवाई से हटे

भीमा-कोरेगांव मामला : CJI के बाद जस्टिस गवई भी गौतम नवलखा की सुनवाई से हटे

जस्टिस बी.आर. गवई (Justice BR Gavai) से पहले भारत के मुख्य न्यायाधीश Chief Justice of India) रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) ने भी गौतम नवलखा (Gautam Navlakha) की याचिका पर सुनवाई से खुद को अलग कर लिया था.

    नई दिल्ली. भीमा-कोरेगांव हिंसा (Koregaon-Bhima violence) मामले में सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा (Gautam Navlakha) के खिलाफ दर्ज एफआईआर निरस्त करने संबंधी उनकी याचिका की सुनवाई से जस्टिस बी.आर. गवई (Justice BR Gavai) ने खुद को अलग कर लिया है. जस्टिस गवई से पहले भारत के मुख्य न्यायाधीश Chief Justice of India) रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) ने भी इस मामले की सुनवाई से खुद को अलग कर लिया था.

    न्यायमूर्ति एनवी रमण, न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति बी आर गवई की पीठ के समक्ष मंगलवार को नवलखा की अपील सुनवाई के लिए आई थी. इस पर न्यायमूर्ति गवई ने नवलखा की अपील पर सुनवाई करने से खुद को अलग कर लिया. शीर्ष अदालत ने कहा कि नवलखा की अपील अब तीन अक्टूबर को किसी अन्य पीठ के समक्ष सूचीबद्ध की जाएगी. इससे पहले, सोमवार को गौतम नवलखा की याचिका प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की पीठ के समक्ष सूचीबद्ध हुई थी, लेकिन प्रधान न्यायाधीश ने इसकी सुनवाई से खुद को अलग कर लिया था.

    Bhima Koregaon violence, Gautam Navlakha, FIR, BR Gavai, Ranjan Gogoi
    31 दिसंबर 2017 को पुणे जिले के भीमा-कोरेगांव में कार्यक्रम के एक दिन बाद कथित रूप से हिंसा भड़क गई थी.


    इस मामले में महाराष्ट्र सरकार ने कैविएट दाखिल कर रखी है ताकि उसका पक्ष सुने बगैर कोई आदेश पारित नहीं किया जाए. उच्च न्यायालय ने 2017 में कोरेगांव-भीमा हिंसा और माओवादियों से कथित संबंधों के मामले में दर्ज प्राथमिकी निरस्त करने से 13 सितंबर को इंकार कर दिया था. उच्च न्यायालय ने कहा था कि इस मामले में पहली नजर में ठोस सामग्री है. उच्च न्यायालय ने कहा था कि इस मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी गहराई से जांच की आवश्यकता है.

    Bhima Koregaon violence, Gautam Navlakha, FIR, BR Gavai, Ranjan Gogoi
    13 सितंबर को उच्च न्यायालय ने माओवादी संपर्कों के लिए नवलखा के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को रद्द करने से इनकार कर दिया था.


    क्या है पूरा मामला
    13 सितंबर को उच्च न्यायालय ने 2017 में कोरेगांव-भीमा हिंसा और कथित माओवादी संपर्कों के लिए नवलखा के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को रद्द करने से इनकार कर दिया था. उच्च न्यायालय ने कहा कि मामले की गंभीरता को देखते हुए हमें लगता है कि विस्तृत जांच की जरूरत है. पुणे पुलिस ने 31 दिसंबर 2017 को एल्गार परिषद के बाद जनवरी 2018 में नवलखा और अन्यों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी. एल्गार परिषद आयोजित करने के एक दिन बाद पुणे जिले के कोरेगांव भीमा में हिंसा भड़क गई थी.

    इसे भी पढ़ें :-
    कोरेगांव-भीमा : सीजेआई ने गौतम नवलखा की याचिका पर सुनवाई से खुद को किया अलग
    भीमा-कोरेगांव हिंसा : क्या हुआ था 1 जनवरी 1818 की सुबह?

    Tags: CJI Ranjan Gogoi, Justice Ranjan Gogoi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर