विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने दिया भाषण, CM शिवराज ने किया एक अनुरोध

कमलनाथ ने कहा प्रदेश का विकास पक्ष-विपक्ष के मिलकर साथ काम करने से ही हो सकता है.

कमलनाथ ने कहा प्रदेश का विकास पक्ष-विपक्ष के मिलकर साथ काम करने से ही हो सकता है.

Bhopal-कमलनाथ ने कोरोना से निपटने में नाकाम रहने के अपनी सरकार पर लगे आरोपों पर कहा मार्च 2020 में कोरोना जब फैलना शुरू हुआ उस वक्त हमारी सरकार कोरोना से निपटने की तैयारी कर रही थी.लेकिन ठीक उसी समय प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री बेंगलुरु में थे.

  • Share this:
भोपाल.नेता प्रतिपक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) ने आज विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर भाषण दिया. यह पहला मौका था जब कमलनाथ ने मध्यप्रदेश की विधानसभा में विपक्ष के नेता के तौर पर पहली बार किसी भाषण में हिस्सा लिया और सरकार के कामकाज पर सवाल उठाए.

कमलनाथ ने राज्यपाल के अभिभाषण में योजनाओं के आगे प्रस्तावित शब्द होने पर सवाल खड़े किए.साथ ही ये भी कहा कि राज्यपाल के अभिभाषण में मौजूदा मुद्दों और समस्याओं को शामिल नहीं किया गया जो सवाल खड़े करता है.अच्छा होता कि राज्यपाल के अभिभाषण में किसान आंदोलन और बेरोजगारी से जुड़े मुद्दों को शामिल किया जाता. कमलनाथ ने अपनी 15 महीने की सरकार पर बीजेपी के आरोप का भी भाषण के जरिए जवाब दिया. उनके भाषण पर नजर डालें तो ये उसमें खास बातें थीं.

राज्यपाल के अभिभाषण पर नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ का भाषण

जनता है गवाह
कमलनाथ ने कोरोना से निपटने में नाकाम रहने के अपनी सरकार पर लगे आरोपों पर कहा कि 2018 के चुनाव में जनता ने हमें अपना जनादेश दिया था.मार्च 2020 में कोरोना जब फैलना शुरू हुआ उस वक्त हमारी सरकार कोरोना से निपटने की तैयारी कर रही थी.लेकिन ठीक उसी समय प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री बेंगलुरु में थे.हमने विषम परिस्थितियों में मुख्यमंत्री का कार्यकाल संभाला था.

-कमलनाथ ने कहा बीजेपी का बार-बार ये आरोप कि हमारी सरकार ने पूरा प्रदेश बर्बाद कर दिया ये कहना ठीक नहीं.23 मार्च के बाद कोरोना तेजी के साथ फैला जबकि कांग्रेस सरकार 20 मार्च को जा चुकी थी.

Youtube Video




-राज्यपाल के अभिभाषण में किसान और बेरोजगारों को लेकर कुछ नहीं कहा गया है.

-कमलनाथ ने कहा प्रदेश के विकास के लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों का साथ होना ज़रूरी है.प्रदेश के विकास के लिए मिलकर सोचना जरूरी है.कमलनाथ ने कहा सहानुभूति नहीं चाहिए बल्कि साथ मिलकर काम करना जरूरी है.

-कमलनाथ ने राज्यपाल के अभिभाषण में योजनाओं के प्रस्तावित होने पर भी उठाए सवाल.उन्होंने कहा सरकार योजनाओं को प्रस्तावित कर खुश हो रही है.सरकार को बताना चाहिए था कि 1 साल में क्या होगा और 3 साल में क्या होगा.

- शुद्ध के लिए युद्ध हमारी कांग्रेस सरकार ने चलाया.उन्होंने इसका श्रेय तत्कालीन मंत्री तुलसीराम सिलावट को दिया.

-कृषि कानून पर कहा इसकी खामियों को समझना होगा.इन नये कानून से किसान बंधुआ मजदूर बन जाएगा.MP में MSP का कोटा बढ़ाने की जरूरत है.

-कमलनाथ ने कहा अगला साल भी आएगा.रेत माफिया, भू माफिया, शराब माफिया की करतूत प्रदेश देख रहा है.

-CM शिवराज से कहा कि अगले साल सरकार जवाब देगी इसका इंतजार होगा.

मुख्यमंत्री शिवराज का नेता प्रतिपक्ष से अनुरोध

राज्यपाल के अभिभाषण पर नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ के सदन में दिए गए भाषण के बाद सीएम शिवराज ने कहा कि उनके भाषण के दौरान भी नेता प्रतिपक्ष मौजूद रहेंगे तो अच्छा होगा. नेता प्रतिपक्ष के उठाए गए सवालों का मुख्यमंत्री सवाल देने की कोशिश करेंगे. संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी अनुरोध किया कि मुख्यमंत्री के भाषण के दौरान नेता प्रतिपक्ष जरूर मौजूद रहें.संसदीय कार्य मंत्री ने कहा यदि नेता प्रतिपक्ष व्यस्त हों तो मुख्यमंत्री का अभिभाषण कल भी किया जा सकता है.लेकिन सीएम के भाषण के दौरान नेता प्रतिपक्ष मौजूद रहेंगे तो अच्छा होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज